Home »SME »IT-Telecom» Two Public Sector Units Are Supplying The EVM To Election Commission

5500 रुपए में खरीदी गई थी EVM मशीन, ये दो कंपनियां करती हैं सप्लाई

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को मिले तीन चौथाई बहुमत के बाद विपक्षी दलों ने ईवीएम (इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन) में छेड़छाड़ के आरोप लगाए हैं। बसपा अध्यक्ष मायावती, दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल सहित दूसरे प्रमुख दलों के नेताओं का आरोप है कि भाजपा को चुनावों में भारी ईवीएम में छेड़छाड़ की वजह से ही मिली है।
 
10 हजार रुपए के करीब है कीमत
 
पूर्व इलेक्शन कमिश्नर वी.एस.संपथ ने moneybhaskar.com को बताया कि ईवीएम में छेड़छाड़ के आरोप बेबुनियाद हैं। इस तरह की छेड़छाड़ उसमें नहीं की जा सकती है। जहां तक कीमत की बात है, तो एक मशीन की कीमत उनके कार्यकाल के दौरान करीब 10 हजार रुपए की आती थी।
आगे की स्लाइड में पढ़िए पहली बार क्या थी कीमत

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY