Home »SME »Policy» Product Of Msme Are Becoming Less Competitive In Domestic And Export Market

प्री बजट मीटिंग: एमएसएमई सेक्‍टर ने उठाया ज्‍यादा लागत का मुद्दा

प्री बजट मीटिंग: एमएसएमई सेक्‍टर ने उठाया ज्‍यादा लागत का मुद्दा
नई दिल्‍ली। माइक्रो स्‍माल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (एमएसएमई)  ने केंद्र सरकार से स्‍टील और अल्‍युमिनियम पर मिनिमम इंपोर्ट प्राइस और एंटी डंपिग ड्युटी वापस लेने की मांग की है। एमएसएमई सेक्‍टर के प्रतिनिधियों ने शनिवार को वित्‍त मंत्री अरुण जेटली के साथ प्री बजट मीटिंग में अपनी बात रखी।
 
लागत बढ़ने से कम प्रतिस्‍पर्धी रह गए हैं एमएसएमई के प्रोडक्‍ट 
 
फेडरेशन ऑफ इंडियन माइक्रो एंड स्‍माल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज के प्रेसीडेंट संगम कुरादे ने वित्‍त मंत्री के समक्ष यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि इन कदमों के जरिए सरकार का इरादा घरेलू स्‍टील और एल्‍युमिनियम इंडस्‍ट्री को सपोर्ट करने का है। लेकिन इससे एमएसएमई सेक्‍टर को नुकसान हो रहा है। इन कदमों से एमसएमई के उत्‍पादों की लागत बढ़ गई है और घरेलू और निर्यात बाजार में इनके उत्‍पाद प्रतिस्‍पर्धी नहीं रह गए हैं। 
 
वित्‍त मंत्री ने इंडस्‍ट्री से की निवेश बढ़ाने की अपील 
 
 प्री बजट मीटिंग के तहत वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने इंडस्‍ट्री के प्रतिनधियों से भी मुलाकात की। उन्‍होंने मुलाकात के दौरान इंडस्‍ट्री के प्रतिनिधियों से निवेश बढ़ाने की जरूरत पर जोर दिया।
 
 
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY