Home »SME »Industry Voice» Employees Of The Khadi Village Industries Commission Have Threatened To Launch An Indefinite Hunger Strike From January 26, Demanding Corruption Free KVIC And To Ensure That Mahatma Gandhi Pictures Always Appear On Its Annual

खादी कैलेंडर पर मोदी की फोटो का मामला: KVIC कर्मचारियों ने 26 से दी भूख हड़ताल की धमकी

खादी कैलेंडर पर मोदी की फोटो का मामला: KVIC कर्मचारियों ने 26 से दी भूख हड़ताल की धमकी
मुम्‍बई।खादी के कैलेन्‍डर पर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के फोटो लगाने पर विवाद बढ़ता जा रहा है। इसको लेकर खादी विलेज इन्‍डस्ट्रीज कमीशन(केवीआईसी) के कर्मचारी 26 जनवरी से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर जाने की तैयारी कर रहे हैं। इन लोगों का कहना है कि गांधी जी का फोटो हरदम कैलेन्‍डर और डायरी पर लगाने को जरूरी बनाया जाए और संस्‍थान को भ्रष्‍टाचार मुक्‍त किया जाए।
 
पहले भी हो चुका है प्रदर्शन
इससे पहले 12 जनवरी को शिवसेना की सहयोगी यूनियन खादी ग्रामोद्योग कर्मचारी सेना (केजीकेएस) ने प्रदर्शन किया था। यूनियन का कहना है कि प्रदर्शन में शामिल होने वाले कर्मचारियों को मैनेजमेन्‍ट परेशान कर रहा है। इन्‍होंने कहा कि अगर केवीआईसी प्रबंधन कर्मचारियों को सजा देता है, तो इसका विरोध किया जाएगा। संगठन के एक नेता का कहना है कि हम गांधी जी के नाम से खिलवाड़ नहीं होने देंगे। हम लोग उनके आदर्शों को बचाने के लिए कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं। हम लोग भारत को करप्‍शन फ्री बनाने के ऐड़ीचोटी का जोर लगा देंगे।
 
देश भर में हो रहा है विरोध
खादी के कैलेन्‍डर पर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के फोटो का विरोध पूरे देश में हो रहा है। ज्‍यादातर राजनैतिक पार्टियों ने इसका विरोध किया है। यहां तक की केन्‍द्र सरकार में सत्‍ता में सहयोगी पार्टी शिवसेना भी इस मुद्दे पर विरोध में है। शिवसेना के प्रवक्‍ता अनिल देसाई का कहना है कि यह विषय हमारी पार्टी का बड़ा इश्‍यू है। इस मुद्दे को हम लोग गंभीरता से ले रहे हैं।  
 
प्रदर्शन करने वालों पर कर्रवाई का विरोध
इससे पहले केजीकेएस के अध्‍यक्ष और सांसद आनन्‍दराव अदसुल ने केवीआईसी प्रबंधन को चेताया। इन्‍होंने कहा कि इस मुद्दे पर शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने कर्मचारियों को सजा देने का विरोध किया जाएगा। साथ ही इन्‍होंने केवीआईसी प्रबंधन से पूछा है कि क्‍या गांधी जी का फोटो हटा कर पीएम मोदी का फोटो लगाने के लिए पीएमओ से परमीशन ली गई थी या नहीं।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY