Home »Personal Finance »Property »Update» Income Tax Issued Notice To Avoid Benami Transactions

बेनामी एक्‍ट के उल्‍लंघन पर होगी 7 साल की जेल, इनकम टैक्स एक्ट के तहत भी एक्शन

बेनामी एक्‍ट के उल्‍लंघन पर होगी 7 साल की जेल, इनकम टैक्स एक्ट के तहत भी एक्शन
 
 
नई दिल्‍ली. इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने कहा है कि बेनामी ट्रांजैक्‍शन एक्‍ट का उल्‍लंघन करने वालों के खिलाफ दो कानूनों के तहत कार्रवाई होगी। ऐसे लोगों को बेनामी एक्ट के तहत न केवल 7 साल की जेल हो सकती है, वहीं सामान्‍य इनकम टैक्‍स एक्‍ट के तहत भी कार्रवाई की जाएगी।
 
1 नवंबर को हुआ था लागू
 
इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने शुक्रवार को सभी अखबारों में इस आशय का विज्ञापन देते हुए लोगों से अपील की है कि 1 नवंबर, 2016 से नया बेनामी ट्रांजैक्‍शन एक्‍ट लागू हो चुका है, जिसका उल्‍लंघन न करें। विज्ञापन में कहा गया है कि ब्‍लैकमनी मानवता के खिलाफ क्राइम है, हम सभी नागरिकों से अपील करते हैं कि वे इसे खत्‍म करने में सरकार का साथ दें।
 
7 साल की कैद और 25 फीसदी जुर्माना
 
टैक्‍स डिपार्टमेंट ने कहा कि बेनामी ट्रांजैक्‍शन एक्‍ट के तहत बेनामीदार ( जिसके नाम पर प्रॉपर्टी है, बेनिफिशियरी ( प्रॉपर्टी खरीदने के लिए जिसने पैसा दिया है) और वह व्‍यक्ति, जिसने बेनामी ट्रांजैक्‍शन में साथ दिया है, तीनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और उन्‍हें 7 साल की कैद व बेनामी प्रॉपर्टी के बाजार मूल्‍य का 25 फीसदी जुर्माने के रूप में देना होगा।
 
5 साल की कैद और 10 फीसदी जुर्माना
 
इसके अलावा जो व्‍यक्ति बेनामी एक्‍ट के तहत गलत सूचना देते हैं, उसे 5 साल की जेल हो सकती है। इसके अलावा प्रॉपर्टी के बाजार मूल्‍य का 10 फीसदी जुर्माना देना होगा। डिपार्टमेंट ने यह भी कहा है कि बेनामी प्रॉपर्टी अटैच भी सकती है या सरकार द्वारा जब्‍त भी की जा सकती है, इसके साथ साथ इनकम टैक्‍स एक्‍ट 1961 के तहत कार्रवाई भी की जा सकती है।
 
अब तक हुए 230 केस रजिस्‍टर
 
वहीं, डिपार्टमेंट ने कहा है कि पिछले साल नवंबर से शुरू हुई नोटबंदी के बाद से लेकर फरवरी के मध्‍य तक बेनामी एक्‍ट के तहत 230 केस रजिस्‍टर किए गए हैं, और देश भर में लगभग 55 करोड़ रुपए की एसेट्स को अटैच किया गया है।
 
55 करोड़ रुपए के एसेट्स अटैच
 
डिपार्टमेंट के मुताबिक, 140 केस में कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है, जिसमें लगभग 200 करोड़ रुपए की एसेट्स शामिल है। 124 केस में लगभग 55 करोड़ रुपए की एसेट्स अटैच की जा चुकी है। अटैच एसेट्स में बैंक खातों में जमा पैसा, एग्रीकल्‍चरल और अन्‍य लैंड, फ्लैट और ज्‍वैलरी शामिल हैं।
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY