Home »Market »Stocks» Liquid Funds Of Mutual Funds Are Getting Good Returns Lots Of Investment Too

लिक्विड म्‍यूचुअल फंड ने एक साल में दिया 10 फीसदी तक रिटर्न, आगे भी फायदे की उम्मीद

नई दिल्ली. म्युचुअल फंड के लिक्विड फंड निवेशकों को अच्छा रिटर्न दे रहे हैं। यहां पर निवेश किए गए पैसे को डेट इंस्ट्रूमेंट में लगाया जाता है। इसके चलते जहां निवेश की सुरक्षा रहती है, वहीं पैसा निकालने की आसान व्यवस्था इन फंड्स को निवेश के लिए आकर्षक बनाती है। यही कारण है कि लिक्विड फंड की अच्छी योजनाओं में हजारों करोड़ रुपए का निवेश है। कुछ योजनाओं में तो 20 हजार करोड़ रुपए तक का भी निवेश है। रिटर्न के लिहाज से भी इनका प्रदर्शन अच्छा है। इस फंड केटेगरी में योजनाओं ने 10 फीसदी तक का रिटर्न दिया है।

जरूरत पर निवेश को निकालना आसान 
 
म्युचुअल फंड से निवेश निकालना अब आधा घंटे की बात रह गया है। इन फंड में कुछ योजनाओं में निवेश करने का सबसे बड़ा फायदा जरूरत पर इंस्टेंट कैश मिलना है। इसके अलावा यह योजनाएं बैंकों के सेविंग अकाउंट से ज्यादा का रिटर्न भी दे रही हैं। इस कारण यह योजनाएं उन लोगों के लिए अच्छी हैं, जिनके सेविंग अकाउंट अच्छा खासा पैसा रहता है। ऐसे लोग अगर इन योजनाओं में निवेश करते हैं, तो उन्हें बैंक के सेविंग अकाउंट में मिलने वाले 4 फीसदी ब्याज से ज्यादा का रिटर्न मिल जाएगा और जरूरत पर पैसा उपलब्ध रहेगा।
 
कौन कौन कंपनी के पास हैं ऐसी योजनाएं
 
आईसीआईसीआई, डीएसपी ब्लैक रॉक और रिलायंस म्युचुअल फंड ने अपनी कुछ योजनाओं में यह सुविधा दी है। आईसीआईसीआई सेविंग फंड, रिलायंस मनी मैनेजर फंड और डीएसपी मनी मैनेजर फंड में यह सुविधा मिल रही है। म्युचुअल फड कंपनियां इनमें निवेश को पूरे साल निकालने की सुविधा देती हैं।
  अन्य योजनाओं में कितने समय में मिलता है पैसा
 
सामान्यता म्युचुअल फंड की योजनाओं को कैश कराने के दूसरे से तीसरे वर्किंग डे पर पैसा बैंक में आ जाता है। यहां पर वर्किंग डे को समझना जरूरी है। वर्किंग डे से मतलब है कि बैंक और शेयर बाजार में कारोबारी दिन। अगर किसी ने शुक्रवार को अपनी म्युचुअल फंड की यूनिट को कैश कराया होगा तो उसे पैसा मंगलवार या बुधवार को मिलेगा। ऐसा इसलिए कि शनिवार और रविवार को वर्किंग डे नहीं होगा।
 
कैसे उठा सकते हैं ज्यादा फायदा
 
किसी के बैंक सेविंग अकाउंट में अगर 1 लाख रुपए बना रहता है। और वह इन फंड में निवेश का फैसला करता है, तो उसे साल में 8 से 10 फीसदी तक का रिटर्न मिल सकता है। बैंक में उसे इस जमा पर 4 फीसदी ब्याज ही मिलेगा। इस प्रकार निवेशक को उसी पैसे पर करीब 4 से 6 फीसदी तक का अतिरिक्त रिटर्न मिल जाएगा, साथ ही बैंक की तरह लिक्विडिटी भी हमेशा बनी रहेगी।
 
अगली स्‍लाइड में जानें कौन सी योजनाएं दे रही है अच्‍छा रिटर्न
 
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY