Home »Market »Commodity »Metals» Buying Gold Jewellry May Hit Customer Pocket Under New GST Rate

GST के नए रेट से ज्वैलरी हो सकती है महंगी, घट सकती है डिमांड

नई दिल्ली। गुड्स और सर्विस टैक्स (जीएसटी) के लिए सरकार ने नए स्लैब रेट तय कर दिए हैं। इसके तहत गोल्ड पर 5 फीसदी टैक्स लगाया सकता है। कारोबारियों के अनुसार अगर ऐसा होता है तो ज्वैलरी महंगी हो सकती है। अभी गोल्ड ज्वैलरी पर 1 फीसदी वैट देना पड़ता है। गुरूवार को जीएसटी काउंसिल की मीटिंग में गोल्ड पर जीएसटी रेट रेवेन्यू शेयरिंग के आधार पर तय करने का फैसला लिया गया है।
 
ज्वैलरी हो सकती है महंगी
 
ज्वैलर्स एसोसिसएशन के मुताबिक न्यूनतम जीएसटी रेट गोल्ड और डायमंड पर 5 फीसदी लगने से ज्वैलरी महंगी हो सकती है। इस बारे में राजेश एक्सपोर्ट्स एमडी राजेश मेहता ने कहा कि अगर सरकार न्यूनतम स्लैब रेट 5 फीसदी गोल्ड पर लगाती है, तो इससे ज्वैलरी महंगी हो जाएगी। दिल्ली की ज्वैलरी मार्केट दरीबा के ज्वैलर योगराज गुप्ता ने कहा कि सरकार के न्यूनतम दर का सीधा असर डिमांड, गोल्ड इन्वेस्टमेंट और ग्राहकों की जेब पर पड़ेगा।
 
ज्वैलर्स के बीच अटकलें शुरू
 
ज्वैलर्स ने गोल्ड पर लगने वाले जीएसटी रेट को लेकर अटकलें शुरू हो गई हैं। करोलबाग के ज्वैलर कीमतीलाल जैन ने कहा कि अभी ग्राहक 1 फीसदी वैट गोल्ड पर देते हैं। गोल्ड के दाम और टैक्स रेट बढ़ने से ज्वैलरी खरीदना महंगा हो जाएगा। इसका सीधा असर शॉर्ट टर्म में ज्वैलरी की डिमांड पर भी नजर आएगा। गुरूवार को 10 ग्राम गोल्ड का भाव 31,000 रुपए था।
 
अगली स्लाइड में जानें – सरकार ने क्यूं नहीं तय किए गोल्ड के लिए रेट
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY