Home »Industry »Manufacturing» Manufacturing Sector Growth Hits 22 Months High In Oct Driven By New Orders: PMI

अक्‍टूबर में मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की ग्रोथ 22 माह के टॉप पर, तेजी से बढ़े नए ऑर्डर

 
नई दिल्‍ली. भारत की मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की ग्रोथ अक्‍टूबर में 22 महीने के टॉप पर दर्ज की गई। निक्‍केई के मंथली सर्वे के अनुसार आउटपुट, खरीदारी और नए ऑर्डर बढ़ने से मैन्‍यूफैक्‍चरिंग एक्टिविटी में तेजी आई है। निक्‍केई मार्किट इंडिया मैन्‍यूफैक्‍चरिंग पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्‍स (पीएमआई) अक्‍टूबर में 54.4 अंक पर दर्ज किया गया। सितंबर में यह 52.1 पर था। मैन्‍यूफैक्‍चरिंग एक्टिविटी में आई तेजी से साफ है कि देश में बिजनेस कंडीशन बेहतर हो रहा है।
इकोनॉमी में आ रही तैजी: मार्किट इकोनॉमिस्‍ट 
आईएचएस मार्किट की इकोनॉमिस्‍ट पालियाना डे लीमा का कहना है कि अक्‍टूबर के मैन्‍यूफैक्‍चरिंग आंकड़ों से साफ है कि इंडिया की इकोनॉमी में तेजी आ रही है। अक्‍टूबर में मैन्‍यूफैक्‍चरिंग आउटपुट 46 माह में सबसे तेज और नए ऑर्डर 22 माह में सबसे तेजी से बढ़े हैं। पीएमआई में 50 से ऊपर का अंक मैन्‍यूफैक्‍चरिंग की बेहतर परफार्मेंस और एक्‍सपेंशन को दर्शाता है।
 
लगातार 10वें महीने बढ़ा आउटपुट
निक्‍केई मार्किट सर्वे के अनुसार, अक्‍टूबर में लगातार 10वें महीने आउटपुट बढ़ा है। वहीं, चार साल में आउटपुट बढ़ने की दर सबसे तेज है। सर्वे में शामिल लोगों का कहना है कि नए ऑर्डर की मजबूत ग्रोथ के चलते मैन्‍यूफैक्‍चरिंग एक्टिविटी में यह तेजी आई है। लीमा का कहना है कि रिजर्व बैंक की ओर से रेट कट के चलते ग्रोथ में तेजी आई लेकिन इससे महंगाई बढ़ने का भी अंदेशा है। 
 
RBIने अक्‍टूबर में घटाया रेपो रेट
रिजर्व बैंक ने अक्‍टूबर में कर्ज सस्‍ता किया था। मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (एमपीसी) की दो दिन हुई मीटिंग के बाद 4 अक्‍टूबर को रेपो रेट 6.50 फीसदी से घटाकर 6.25 फीसदी कर दिया गया। एमपीसी में तीन मेम्‍बर सरकार और बाकी मेम्‍बर‍ आरबीआई के हैं। एमपीसी की अगली मीटिंग 6 और 7 दिसंबर हो होगी।
 
घरेलू मार्केट के साथ एक्‍सपोर्ट से बढ़ा नया बिजनेस
आईएचएस मार्किट की इकोनॉमिस्‍ट पालियाना डे लीमा का कहना है कि नए बिजनेस से सबसे अधिक फायदा घरेलू मार्केट से आ रहा है लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि एक्‍सपोर्ट कंपोनेट का भी पॉजिटिव रोल है। सर्वे के अनुसार, कुल नए ऑर्डर में विदेशी ऑर्डर का कंट्रीब्‍यूशन बढ़ा है लेकिन विदेश से नए बिजनेस की ग्रोथ रेट तीन माह के लो पर है।  
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY