Home »Industry »IT-Telecom» South India States Has Seen Sharp Rise In E-Transactions

नोटबंदी के बाद ई-ट्रांजैक्शन में तेलंगाना, केरल, गुजरात ने मारी बाजी, ये राज्य रहे फिसड्डी

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से जिस तरह सरकार का ई-ट्रांजैक्शन पर फोकस बढ़ा है। उसका फायदा उठाते हुए कई राज्यों में ई-सर्विसेज का दायरा तेजी से बढ़ा है। वहीं कई राज्य ऐसे हैं, जो अभी काफी पीछे हैं। ई-ट्रांजैक्शन में तेजी से बढ़ोतरी करने वाले राज्यों में दक्षिण भारत के राज्य कहीं आगे हैं।
 
इन राज्यों ने मारी बाजी
 
मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के ई-तॉल प्रोजेक्ट से moneybhaskar.com  को मिली जानकारी के अनुसार दक्षिण भारत के तेलंगाना, केरल, आंध्रप्रदेश राज्य के लोगों ने ज्यादा ई-ट्रांजैक्शन बढ़ा दिया है।
राज्य
ई-ट्रांजैक्शन (प्रति 1000 जनसंख्या)
तेलंगाना
3987.00
कर्नाटक
3130.60
आंध्रप्रदेश
2505.80
गुजरात
2499.70
हिमाचल प्रदेश
1929.70
 
ये राज्य रहे फिसड्डी
 
रिपोर्ट के अनुसार ई-ट्रांजैक्शन करने में कई राज्यों का परफॉर्मेंस काफी खराब रहा है। इसके तहत सबसे नीचे अरुणाचल प्रदेश का नंबर है, उसके बाद बिहार, जम्मू एंड कश्मीर जैसे राज्य आते हैं।
राज्य
ई-ट्रांजैक्शन (प्रति 1000 जनसंख्या)
अरुणाचल प्रदेश
50.40
बिहार
69.70
नागालैंड
85.30
महाराष्ट्र
87.00
जम्मू एंड कश्मीर
92.50
 
ई-ट्रांजैक्शन के जरिए 3 हजार से ज्यादा सर्विसेज
 
मिनिस्ट्री से मिली जानकारी के अनुसार अब ई-ताल पोर्टल से अब 3 हजार से ज्यादा सर्विसेज जुड़ गई है। इसके तहत प्रमुख रुप से इस तरह की सर्विसेज दी जा रही हैं।
1.सरकार द्वारा दिए जाने वाले सर्टिफिकेट, टैक्स वैट, डीबीटी, पीडीएस
2.यूटीलिटी बिल पेमेंट
3. बैंकिंग ट्रांजैक्शन, डीटीएच
4. गवर्नमेंट इन्फॉर्मेशन सर्विसेज
5. स्कॉलशिप
6. मोबाइल गवर्नेंस
 
आगे की स्लाइड में पढ़िए सरकार करप्शन रोकने के लिए और क्या कर रही है प्लान..

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY