Home »Industry »Companies» Reliance Capital To Focus On Financial Services; Sell All Non Core Investment

फाइनेंशि‍यल सर्वि‍सेज पर रि‍लायंस कैपि‍टल का फोकस, नॉन-कोर बिजनेस से होगी बाहर

फाइनेंशि‍यल सर्वि‍सेज पर रि‍लायंस कैपि‍टल का फोकस, नॉन-कोर बिजनेस से होगी बाहर
 
नई दि‍ल्‍ली।रि‍लायंस कैपि‍टल केवल फाइनेंशि‍यल सर्वि‍सेज पर ही फोकस करेगी। रि‍लायंस कैपि‍टल के सीईओ अनि‍ल अंबानी ने कहा कि‍ रि‍लायंस कैपि‍टल केवल फाइनेंशि‍यल सर्वि‍सेज पर फोकर रही। इसके अलावा, सभी नॉन-कोर इन्‍वेस्‍मेंट को मार्च 2018 तक बेचा जाएगा। उन्‍होंने कहा कि‍ हाउसिंग, स्‍मॉल, मीडि‍यम एंटरप्राइजेज और कंज्‍यूमर फाइनेंस कंपनी के तीन नए ग्रोथ इंजन हैं। उन्‍होंने यह बात मुंबई में हुए कंपनी के एनालि‍स्‍ट सम्‍मेलन में कही। इस सम्‍मेलन में रि‍लायंस कैपि‍टल के सीईओ अनि‍ल अंबानी और ईडी अनमोल अंबानी के अलावा करीब 120 एनालि‍स्‍ट मौजूद थे। सम्‍मेलन के दौरान मार्केट अपॉर्च्‍यूनि‍टी, डि‍लि‍टल ट्रांसफॉर्मेशन और प्रॉफि‍टेबल ग्रोथ को हासि‍ल करने के प्रमुख और वि‍भि‍न्‍न आयामों पर चर्चा की गई।
 
फाइनेंशि‍यल सर्वि‍सेज पर फोकस
-रि‍लायंस कैपि‍टल का पूरा फोकस फाइनेंशि‍यल सर्वि‍सेज के बि‍जनेस पर रहेगा।
-सभी नॉन कोर इन्‍वेस्‍टमेंट के मोनेटाइजेशन का चल रहा है और इसे मार्च 2018 तक पूरा कर लि‍या जाएगा।
-मूवी एक्‍जि‍बि‍शन बि‍जनेस, फि‍ल्‍म और मीडि‍या सर्वि‍सेज और रेडि‍या और टीवी में कई नॉन कोर इन्‍वेस्‍टमेंट को पहले ही मोनेटाइज कर लि‍या गया है।
-रि‍लायंस कैपि‍टल का नेटवर्थ 16,000 करोड़ रुपए है।
 
डि‍जि‍टल की ओर बढ़ते रि‍लायंस कैपि‍टल के कदम
-भारत और डोमेस्‍टि‍क फाइनेंशि‍यल सेक्‍टर इकोनॉमि‍क ग्रोथ की ओर मुड़ गया है। रि‍लायंस कैपि‍टल सबसे बड़ी फाइनेंशि‍यल सर्वि‍सेज कंपनी में से एक है जो इस बदलाव का फायदा लोगों को दे रही है।
-रि‍लायंस कैपि‍टल का मकसद अपने सभी बि‍जनेस में टॉप 3 कंपनि‍यों में शामि‍ल होना है।
-भारत और चीन दुनि‍या के सबसे बड़े डि‍जि‍टल मार्केट्स हैं और रि‍लायंस कैपि‍टल का इरादा नए युवा कस्‍टमर्स के लि‍ए अपने सभी बि‍जनेस में ‘गो डि‍जि‍टल’ होना है।  
 
डि‍जि‍टल के लि‍ए कंपनी ने क्‍या कि‍या
-बि‍जनेस टू बि‍जनेस और बि‍जनेस टू कस्‍टमर ट्रांजैक्‍शन को बढ़ावा देने के लि‍ए टेक्‍नोलॉजी को लगाने पर फोकस।
-रि‍लायंस म्‍युचुअल फंड की करीब 30 फीसदी खरीदारी डि‍जि‍टल चैनल से हो रही है।
-रि‍लायंस नि‍प्‍पोन लाइफ एसेट मैनेजमेंट (RNLAM)सबसे तेजी से बढ़ने वाला इंटरनेशनल डि‍स्‍ट्रि‍ब्‍यूशन नेटवर्क बना रहा है। कंपनी ने नि‍प्‍पोन लाइफ इंश्‍योरेंस और सैमसंग एसेट मैनेजमेंट के साथ स्‍ट्रैटजि‍क टाई-अप्‍स कि‍ए हैं।
 
एसेट मैनेजमेंट में बढ़ी संभावनाएं
-करीब 3.50 लाख करोड़ रुपए के एयूएम के साथ RNLAM भारत की सबसे बडी एसेट मैनेर बन गई है। इसके अलावा, यह दूसरी सबसे ज्‍यादा प्रॉफि‍टेबल एसेट मैनेजमेंट कंपनी है।
-मजबूत रि‍टेल फ्रेंचाइजी से देश भर के इन्‍वेस्‍टर्स तक पहुंच बनाने और स्‍थि‍र एसेट बेस बनाने में मदद मि‍ली है।
-रि‍लायंस म्‍युचुअल फंड के पास करीब 5,000 करोड़ रुपए प्रति‍ वर्ष के साथ सबसे ज्‍यादा एसआईपी काउंट है।
-ईटीएएफ कैटेगरी में रि‍लायंस म्‍युचुअल फंड का मार्केट शेयर 30 फीसदी।  
 
जनरल इंश्‍योरेंस
-रि‍लायंस जनरल इंश्‍योरेंस (RGI) एक तेजी से बढ़ती प्राइवेट सेक्‍टर इंश्‍योरर है। इसका 5 साल की सालाना 24 फीसदी ग्रोथ है और यह सबसे ज्‍यादा प्रोफि‍टेबल कंपनी बन गई है।
-RGI का इंडसइंड बैंक, बैंक ऑफ इंडि‍या, आंध्रा बैंक, कैथोलि‍क सीरि‍यन बैंक, सि‍टी यूनि‍यन बैंक, पेटीमए और फ्रीचार्ज समेत 20 से ज्‍यादा कंपनि‍यों के साथ गठबंधन कि‍या है।
- RGI सालाना आधार पर 10 लाख से ज्‍यादा क्‍लेम को प्रोसेस कर रही है और दूसरी कंपनि‍यों के मुकाबले सबसे कम ‘शि‍कायत’ हैं।
- RGI पहली जनरल इंश्‍योरेंस कंपनी है जो आधार के साथ पूरी तरह इंटीग्रेटेड है।
-मौजूदा समय में सालाना आधार पर RGI डि‍जि‍टल आर्कि‍टेक्‍चर के इस्‍तेमाल से 10 लाख से ज्‍यादा क्‍लेम नि‍पटा चुकी है।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY