Home »Industry »Companies» Indian Employers Are The Fourth Most Optimistic Globally About Hiring Plans For The Next Three Months

अगले 3 महीनों में भारत में जॉब मिलना होगा मुश्किल, सर्वे में हुआ खुलासा

नई दिल्ली. अगले 3 महीने अप्रैल से जून के बीच भारत में नौकरी मिलनी मुश्किल होगी। भारतीय कंपनियां तकनीक के बढ़ रहे ऑटोमेशन, ग्लोबली कारोबार को लेकर अनिश्चितता और कुछ अहम स्किल्स के लिए टैलेंट की कमी का सामना कर रही हैं। इसकी वजह से पिछले साल के मुकाबले इस साल अप्रैल-जून में हायरिंग बहुत कम होने की संभावना है। इस दौरान भारत में हायरिंग सिर्फ 18 फीसदी रहने का अनुमान है। मैनपावर ग्रुप की ओर से 2017 के दूसरे क्वार्टर के लिए किए गए इम्प्लॉयमेंट आउटलुक सर्वे में यह बात सामने आई है।
 
सर्वे में 19 कंपनियों ने लिया हिस्सा
सर्वे में 4389 भारतीय कंपनियों में से सिर्फ 19 फीसदी ने ही हिस्सा लिया है। 1 फीसदी लोगों ने हायरिंग में कटौती करने और 68 फीसदी ने कोई बदलाव नहीं करने के संकेत दिए हैं। इस तरह से इस साल की दूसरी तिमाही में हायरिंग 18 फीसदी रहने का अनुमान है। सर्वे के मुताबिक, भारत में 4389 इम्प्लॉयर्स में से सिर्फ 18 फीसदी ही अगले तीन महीने में लोगों की भर्ती करेंगे।
 
भारत चौथे नंबर पर
लोगों को नौकरी देने के लिए उम्मीदों की बात की जाए तो ताइवान पहले नंबर पर है। यहां 24% इम्प्लॉयर्स लोगों को हायर कर सकते हैं। दूसरा नंबर जापान का है। वहां यह डाटा 23% है। तीसरा नंबर स्लोवेनिया का आता है। वह 22% पर है। भारत 18% के साथ चौथे नंबर पर है। नेट इम्प्लॉयमेंट आउटलुक के इंडेक्स में मौजूदा सर्वे को मिलाकर भारत की पोजिशन में लगातार पांचवें क्वार्टर में गिरावट दर्ज की गई है।
 
हाई स्किल वाले जॉब्स की डिमांड बढ़ेगी
मैनपावर ग्रुप इंडिया ग्रुप के एमडी ए.जी. राव के मुताबिक, दुनिया में ऑटोमेशन की वजह से कंपनियों में मामूली स्किल्स वालों की जरूरत कम होगी। हाई स्किल जॉब्स की डिमांड बढ़ेगी। यह डिमांड ऑटोमेशन की वजह से पैदा होगी। मौजूदा वक्त में कंपनियां आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस और टेक्निक का बेहतर से बेहतर इस्तेमाल चाहती हैं, ताकि इनोवेशन पर जोर दिया जा सकेगा। मौजूदा वक्त में नौकरी तलाशने वालों को स्किल्स बढ़ाने और दूसरी फील्ड के बारे में अपना नॉलेज बढ़ाना होगा।

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY