Home »Industry »Companies» Manufacturer Will Be Required To Register With E-Platform And Enter Data Relating To Sale Of Drugs

दवाओं की सेल्स को ऑनलाइन ट्रैक करेगी सरकार, जल्द बनाएगी ई-प्लेटफॉर्म

नई दिल्ली। देश में दवाओं की बिक्री को ट्रैक और रेगुलेट करने के लिए जल्द ही हेल्थ मिनिस्ट्री एक इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म बनाने जा रही है। सभी ड्रग मैन्युफैक्चरर्स को इस पर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी होगा। इसके अलावा सभी डिस्ट्रीब्यूटर्स से लेकर केमिस्ट को दवाओं की सेल से जुड़े सभी आंकड़े इस ई-प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करवाने होंगे। सरकार का इस ई-प्लेटफॉर्म के जरिए मार्केट में बिक रही सभी दवाओं की क्वालिटी बेहतर बनाने का लक्ष्य है। ई-फॉर्मेसी भी इसके दायरे में आएंगी।
 
 
ई-पोर्टल का उद्देश्‍य मैन्युफैक्चरर्स, डिस्ट्रीब्यूटर्स, रिटेलस सेलर्स, केमिस्ट से लेकर पेशेंट तक के बीच ट्रांसपैरेंसी लाना है। जब तक कोई केमिस्ट, रिटले सेलर या ई-फॉर्मेसी सेंटर रजिस्टर नहीं होते, वे दवाओं की सेल नहीं कर पाएंगे। यहां तक कि कौन सी दवा किस मात्रा में किसे सेल की गई, सभी जानकारी देनी होगी। इस ई-प्लेटफॉर्म को ऑटोनॉमस बॉडी के तौर पर डेवलप किया जाएगा।
 
 
ऑनलाइन या मोबाइल से दे सकते हैं डाटा
ई-प्लेटफॉर्म पर एक बार रजिस्टर हो जाने के बाद डिस्ट्रीब्यूटर्स, रिटेल सेलर्स और केमिस्ट समय-समय पर दवाओं की सेल से जुड़े डाटा ऑनलाइन या मोबाइल के जरिए सरकार को उपलब्ध करा सकते हैं।
 
रूरल एरिया में भी दवाओं की सेल पर नजर
सरकार की नजर रूरल एरिया में भी दवाओं की सेल पर है। इन एरिया में मौजूद केमिस्ट को भी हर 15 दिन में दवाओं की सेल से जुड़ा सारी जानकारी देनी होगी।
 
अस्पतालों को भी देना होगा ब्योरा
यहां तक कि अस्पतालों को यह बताना होगा कि मरीजों को किस बीमारी में कौन सी दवा कितनी मात्रा में दी गई है। हालांकि उनका डाटा गुप्त रखा जाएगा।
 
डॉक्टरों पर भी रहेगी नजर
जिस डॉक्टर की पर्ची पर मरीज को दवा दी जा रही है, उसके बारे में भी ई-प्लेटफॉर्म पर डिटेल ली जाएगी। इसमें डॉक्टर का रजिस्ट्रेशन नंबर, दवा देने वाले केमिस्ट की डिटेल और दवाओं की मात्रा सब कुछ शामिल होगी। 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY