Home »Industry »Auto» Note Ban Impact: Small Commercial Vehicles Still Down From Their Peak Sale

नोटबंदी के बाद गि‍री छोटे कमर्शि‍यल वाहनों की सेल, इन्‍वेंटरी क्‍लीयरेंस पर कंपनि‍यों का जोर

नोटबंदी के बाद गि‍री छोटे कमर्शि‍यल वाहनों की सेल, इन्‍वेंटरी क्‍लीयरेंस पर कंपनि‍यों का जोर
 
नई दि‍ल्‍ली। नोटबंदी के बाद स्‍मॉल कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स (मि‍नि‍ ट्रक) की डि‍मांड और सेल्‍स दोनों पर इम्‍पैक्‍ट दि‍खा है। नवंबर 2016 के बाद से सबसे पॉपुलर व्‍हीकल्‍स की सेल्‍स में गि‍रावट दर्ज की गई है। एक्‍सपर्ट्स का मानना है कि‍ छोटे व्‍हीकल्‍स की सेल्‍स 2013 में अपने उच्‍चतम स्‍तर से करीब 20 फीसदी कम है।
 
इन्‍वेंटरी क्‍लीयर कर रही हैं कंपनि‍यां
 
देश की सबसे बड़ी कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स फाइनेंस कंपनी श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस के एमडी उमेश रेवांकर ने moneybhaskar.com को बताया कि‍ मौजूदा समय में कमर्शि‍यल व्‍हीकल कंपनि‍यां अपने पुराने मॉडल्‍स को क्‍लीयर करने का काम कर रही हैं। ऐसे में जनवरी से मार्च तक उनकी सेल्‍स में ग्रोथ नजर आएगी। हालांकि‍, यह अपने साल 2013 के पीक से अब भी काफी नीचे है।
 
नोटबंदी का दि‍खा असर
 
उमेश रेवांकर ने बताया कि‍ नोटबंदी के बाद से स्‍मॉल कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स की डि‍मांड सुस्‍त पड़ी है। रूरल मार्केट में ज्‍यादातर लेनदेन कैश में होता है और कैश की कमी होने से ट्रांजैक्‍शन कम हो रहे हैं। इस सेगमेंट में अभी कुछ महीनों तक ग्रोथ आने की उम्‍मीद नहीं है।  
 
पॉपुलर व्‍हीकल्‍स सेल्‍स घटी
 
सोसाइटी ऑफ इंडि‍यन ऑटोमोबाइल मैन्‍युफैक्‍चरर्स (सि‍आम) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबि‍क, इस सेगमेंट में महिंद्रा एंड महिंद्रा के पॉपुलर व्‍हीकल्‍स मैक्‍सि‍मो और जीतो दोनों की सेल गि‍री है। अक्‍टूबर 2015 में कंपनी ने इन मॉडल्‍स के 3,630 यूनि‍ट्स बेचे हैं जबकि‍ दि‍संबर 2016 में यह आंकड़ा 2,306 यूनि‍ट्स का है। वहीं, टाटा मोटर्स के ऐस, ऐस एक्‍स और ऐस जि‍प की सेल 6,910 यूनि‍ट्स से दि‍संबर 2016 में 6,618 यूनि‍ट्स रही।    
 
क्‍लीयरेंस सेल का दि‍खा असर
 
2 टन वाले मि‍नि‍ ट्रक सेगमेंट की सेल्‍स पि‍छले साल जुलाई से लेकर दि‍संबर तक डबल हो गई है। जारी आंकड़ों के मुताबि‍क, जुलाई में इस सेगमेंट की कुल सेल 35,571 यूनि‍ट्स थी। वहीं, कंपनि‍यों ने दि‍संबर 2016 में 83,461 व्‍हीकल्‍स को बेचा है।
 
ऐसे में इसकी सेल करीब डबल हो गई है। वहीं, अप्रैल-सि‍तंबर 2016 (फाइनेंशि‍यल ईयर 2016-17) के दौरान इसकी सेल में 3.5 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई। कंपनि‍यों ने कुल 40 हजार यूनि‍ट्स बेचे थे।
 
दो कंपनि‍यों का मार्केट पर कब्‍जा
 
स्‍मॉल कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स सेगमेंट में केवल दो कंपनि‍यों का ही कब्‍जा है। इसमें टाटा मोटर्स सबसे मजबूत पॉजि‍शन पर है। इसकी करीब 72 फीसदी हि‍स्‍सेदारी है। वहीं, महिंद्रा का मार्केट शेयर लगभग 24 फीसदी है। अप्रैल-दि‍संबर 2016-17 के दौरान टाटा मोटर्स ने 60 हजार से ज्‍यादा व्‍हीकल्‍स बेचे जबकि‍ महिंद्रा ने 20,436 व्‍हीकल्‍स को बेचा है। इस सेगमेंट में महिंद्रा एंड महिंद्र और टाटा मोटर्स का ही कब्जा है। इन दोनों कंपनि‍यों की कुल हि‍स्‍सेदारी 90 फीसदी से ज्‍यादा है।
 
मारुति‍ का फ्लॉप शो
 
मारुति‍ सुजुकी ने पि‍छले साल सि‍तंबर में सुपर कैरी को लॉन्‍च करने के साथ स्‍मॉल कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स में एंट्री की थी। हालांकि‍, कंपनी अभी तक केवल 377 यूनि‍ट्स ही बेच पाई है। हालांकि‍, इसको कुछ ही शहरों में बेचा जा रहा है।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY