Home »Experts »SME» Union Budget To Propel SMEs And Boost Entrepreneurship

सुधारवादी बजट, SME और आन्त्रप्रेन्योर्स को फायदा

सुधारवादी बजट, SME और आन्त्रप्रेन्योर्स को फायदा
एक्सपर्ट- 
कृष अय्यर, प्रेसिडेंट और सीईओ, वॉलमार्ट इंडिया
 
वित्त मंत्री अरुण जेटली की तरफ से पेश किया गया बजट सुधारवादी और आर्थिक तरक्की को रफ्तार देने वाला है। बजट में इन्फ्रास्ट्रक्चर (रेल, रोड, फ्रेट कॉरिडोर, एनर्जी) में निवेश को बढ़ावा देने से जुड़े कदम अर्थव्यवस्था के लिहाज से फायदेमंद साबित होंगे। मीडियम से लॉन्ग टर्म के लिए इससे रिटेल सेक्टर को भी फायदा होगा। बजट में कैशलेस ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने के कदम उठाए गए हैं, इससे भी रिटेल ट्रेड को मदद मिलेगी।
राजकोषीय घाटा जीडीपी का 4.1 फीसदी के मुकाबले बेहतर होकर 3.9 फीसदी हो गया है और ब्याज दरों में कमी पर गौर किया जा सकता है। वित्त मंत्री ने 2017-18 तक 3 फीसदी डेफिसिट का रोडमैप दिया है। ब्लैक मनी पर लगाम कसने के लिए उठाए गए कदम पर सरकार का फोकस अच्छे संकेत हैं।
वित्त मंत्री ने कॉरपोरेट टैक्स को अगले चार सालों के लिए 30 फीसदी से घटाकर 25 फीसदी करने का एलान किया है। वहीं, कारोबार शुरू करने की प्रक्रिया आसान करने का भी विजन बजट में दिखाई देता है। ऐसे में निवेश बढ़ने की उम्मीद बंधती है।
सरकार ने 20 हजार करोड़ के फंड के साथ मुद्रा बैंक की भी घोषणा की है, जिससे एसएमई सेक्टर और छोटे आन्त्रप्रेन्योर्स को बूस्ट मिलेगा। गार को दो साल टालने का फैसला, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस पर फोकस और लॉन्ग-टर्म फोकस से इन्फ्रास्ट्रक्चर में निवेश बढ़ेगा और ग्लोबल इनवेस्टर्स का इंडिया के प्रति कॉन्फिडेंस बढ़ेगा।
यूनीफाइड नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट स्थापित करने का प्रस्ताव किसानों के हित में है। इससे किसानों को बेहतर कीमत मिल सकेगी। अगले साल जीएसटी लागू होने की घोषणा से रिटेल सेक्टर समेत कंज्यूमर्स के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। मुझे लगता है कि सरकार का फोकस ईज ऑफ डूइंग बिजनेस पर है, जिसका फायदा इंडस्ट्री को मिलने वाला है।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY