Home »Economy »Taxation» HSBC Discloses Tax Evasion Probe Is On Against Four Indian Individuals

पनामा लीक: HSBC से पूछताछ कर रही भारतीय टैक्स अथॉरिटी, बैंक ने कहा- जांच के घेरे में स्विस, दुबई ब्रांच

लंदन/नई दिल्‍ली. पनामा पेपर्स में कई भारतीयों के नाम सामने आने के बाद टैक्‍स अथॉरिटीज जांच में जुटी हुई हैं। ग्‍लोबल बैंक HSBC भी इस जांच के घेरे में है। बैंक ने अपनी एनुअल रिपोर्ट में बताया है कि पनामा पेपर्स में सामने आए नामों को लेकर उससे जानकारी मांगी जा रही है। उसने खुलासा किया है कि चार भारतीयों और उनकी फैमिली के टैक्‍स चोरी के मामले में भी बैंक से पूछताछ चल रही है। हालांकि बैंक ने इनके नाम का खुलासा नहीं किया है। रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि दूसरे देशों की अथॉरिटीज भी उनसे पूछताछ कर रही हैं। जांच के घेरे में बैंक की स्विट्जरलैंड और दुबई स्थित ब्रांच भी है। बैंक ने क्या कहा...
  
 
- HSBC ने पिछले हफ्ते ही अपनी एनुअल रिपोर्ट जारी की। इसमें उसने बताया है कि पनामा पेपर्स में सामने आए नामों को लेकर लॉ इंफोर्समेंट एजेंसियां और रेग्‍युलेटरी लगातार उनसे जानकारी मांग रही हैं।
- बैंक ने कहा कि उसने टैक्‍स संबंधी और मनी लॉन्ड्रिंग मैटर्स से निपटने के लिए 5 हजार करोड़ रुपए अलग रखे हुए हैं। HSBC ने कहा कि अलग-अलग अथॉरिटीज की तरफ से चल रही इस जांच का नतीजा निकल सकता है। इसका असर बैंक के फाइनेंस सिस्टम पर भी पड़ सकता है। 
 
HSBCपर आरोप, चार भारतीयों को टैक्‍स चोरी में की मदद
- HSBC ने बताया कि भारतीय टैक्‍स अथॉरिटीज ने फरवरी, 2015 में HSBC कंपनी को समन भेजा था और कंपनी से जानकारी मांगी थी। अगस्‍त और नवंबर 2015 में कंपनी को भारतीय टैक्‍स अथॉरिटी के दो ऑफिस से नोटिस आया था।
- इसमें आरोप लगाया था कि अथॉरिटीज के पास HSBC स्विस प्राइवेट बैंक और दुबई में HSBC कंपनी के खिलाफ पुख्‍ता सबूत हैं कि इन्‍होंने चार भारतीयों को टैक्‍स चोरी में मदद की। इसमें इन चार के परिवार के सदस्‍य भी शामिल हैं। बैंक के मुताबिक उससे जवाब मांगा गया था कि आखिर क्‍यों न उसके खिलाफ इस मामले में जांच शुरू की जाए।  
 
भारत के अलावा अन्‍य देश भी कर रहे जांच
- बैंक ने कहा कि वह एजेंसियों के साथ पूछताछ में पूरी मदद कर रहे हैं। बैंक ने बताया कि भारत समेत अमेरिका, फ्रांस, बेल्जियम, अर्जेंटीना की टैक्‍स अथॉरिटीज जांच कर रही हैं। ये अथॉरिटीज HSBC स्विस प्राइवेट बैंक और अन्‍य HSBC कंपनियों से टैक्‍स चोरी के मामले में पूछताछ कर रहे हैं।
 
पहले भी जांच के घेरे में आया हैHSBC
- ब्रिटिश बैंकिंग कंपनी HSBC सबसे पहले तब भारतीय टैक्‍स अथॉरिटीज के जांच के घेरे में आई थीं, जब इसकी जिनेवा ब्रांच से कई भारतीय क्‍लाइंट्स के नाम लीक हुए थे।
- ऐसी ही कई लिस्‍ट भी अन्‍य देशों में भी जांच का कारण बनी थीं। भारतीय टैक्‍स अथॉरिटीज की तरफ से ब्‍लैकमनी के खिलाफ अपनी लड़ाई तेज कर दी है। इस जांच के घेरे में स्विट्जरलैंड और दुबई स्थित कई बैंक ब्रांचेस हैं। 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY