Home »Economy »Taxation» ITAT As Upheld Levy Of Rs 10,247 Crore Capital Gains Tax On Cairn Energy

ITAT: केयर्न को देना होगा 10,247 करोड़ का कैपिटल गेन्स टैक्स

ITAT: केयर्न को देना होगा 10,247 करोड़ का कैपिटल गेन्स टैक्स
नई दिल्ली। टैक्स ट्रिब्यूनल आईटीएटी ने यूके की केयर्न एनर्जी पर 10,247 करोड़ रुपए का कैपिटल गेन्स टैक्स लगाने के फैसले को बरकरार रखा है। लेकिन ट्रिब्‍यूनल ने रिट्रोस्पेक्टिव टैक्स लगाने के अधिकार के तहत टैक्‍स डिमांड पर ब्‍याज लगाने के मामले को खारिज कर दिया है।
 
आईटीएटी ने 9 मार्च, 2017 को दिए गए आदेश में कहा है कि स्टॉक मार्केट में केयर्न इंडिया को लिस्ट कराने से पूर्व केयर्न एनर्जी शेयर ट्रांसफर करने के लिए टैक्‍स देने की उत्‍तरदायी थी, जिसे उसने 2006 में अपने इंडियन बिजनेस में आंतरिक पुनर्गठन के जरिये अंजाम दिया था।
ट्रिब्‍यूनल ने यह भी कहा कि केयर्न इंडिया को अपनी मूल कंपनी को हुए कैपिटल गेन्स पर टैक्‍स भुगतान करना चाहिए था। इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने टैक्‍स भुगतान के लिए दोनों कंपनियों को डिमांड नोटिस भेजा था।
 
जनवरी 2014 में 10,247 करोड़ रुपए का नोटिस मिलने के बाद केयर्न एनर्जी ने आईटीएटी में अपील दायर की थी। बाद में इसने टैक्‍स डिमांड के खिलाफ अंतरराष्‍ट्रीय आर्बीट्रेशन में भी याचिका दायर की, जो अभी लंबित है।
 
इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने केयर्न एनर्जी से कुल 29,047 करोड़ रुपए टैक्‍स की मांग की है, जिसमें 18,800 करोड़ रुपए ब्‍याज है। इतने ही टैक्‍स की मांग केयर्न एनर्जी की इंडियन सब्सिडियरी केयर्न इंडिया से भी की गई है जिसे 2011 में अनिल अग्रवाल के वेदांता समूह को बेच दिया था।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY