Home »Economy »Foreign Trade» This Is Evident In The Growing Interest By The Indian Companies Towards The Middle East Markets

भारत, UAE के बीच 2020 तक 6.70 लाख करोड़ रुपए का होगा बायलेटरल ट्रेड: CII

दुबई.भारत और यूएई के बीच 2020 तक ट्रेड 100 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है। अभी दोनों देशों के बीच बायलेटर ट्रेड 60 अरब डॉलर का है। कन्‍फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्‍ट्री (सीआईआई) का कहना है कि भारतीय कंपनियों का मिडिल ईस्‍ट खासकर यूएई में इंटरेस्‍ट बढ़ा है। इसके चलते दोनों देशों में ट्रेड बढ़ रहा है।
 
मिडिल ईस्‍ट इलेक्ट्रिसिटी एग्‍जीबिशन के मौके पर बुधवार को अलग से सीआईआई की ओर से यह स्‍टेटमेंट जारी किया गया। इस एग्‍जीबिशन में करीब 50 प्रमुख भारतीय कंपनियां शिरकत कर रही हैं। एग्‍जीबिशन में कई तरह के इलेक्ट्रिकल प्रोडक्‍ट और इंस्‍ट्रूमेंट्स डिस्‍प्‍ले किए गए हैं। इनमें केबल, कंडक्‍टर, कैपेसिटर्स, ट्रांसफॉमर्स और स्विचगीयर प्रोडक्‍ट शामिल हैं। कॉमर्स मिनिस्‍ट्री और सीआईआई की ओर से आयोजित इवेंट में इंडियन कंपनियों को शोकेस किया जा रहा है।
 
दुबई में यूएई मिनिस्‍ट्री ऑफ एनर्जी की ओर से यह इवेंट कराया जा रहा है। पावर इंडस्‍ट्रीज के लिए मिडिल ईस्‍ट में इलेक्ट्रिसिटी सबसे बड़ा इंटरनेशल ट्रेड इवेंट है। इसमें पावर जेनरेशन, ट्रांसमिशन और डिस्‍ट्रीब्‍यूशन के साथ-साथ रिन्‍युएबल, न्‍यूक्लियर एनर्जी सेक्‍टर और लाइटिंग इंडस्‍ट्री के प्रोडक्‍ट भी शोकेस किए जा रहे हैं।
 
सीआईआई का कहना है कि बजट में इंडस्‍ट्री खासकर छोटी कंपनियों के लिए कॉरपोरेट टैक्‍स में कटौती करने के एलान का पॉजिटिव असर करीब 97 फीसदी यानी करीब 67 लाख कंपनियों पर हुआ है। इस कदम से एमएसएमएई के लिए कारोबार करना पहले से सस्‍ता और आसान होगा और इसका इंटरप्रेन्‍योरशिप पर भी अच्‍छा असर दिखाई देगा। 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY