Home »Economy »Foreign Trade» China To Run Nearly 1000 Cargo Trains To Europe In 2017

इस साल यूरोप में 1000 ट्रेनों से माल एक्‍सपोर्ट करेगा चीन

इस साल यूरोप में 1000 ट्रेनों से माल एक्‍सपोर्ट करेगा चीन
बीजिं‍ग। चीन इस साल यूरोप में तकरीबन 1000 मालगाड़ि‍यां चलाएगा। अपने एक्‍सपोर्ट को ताकत देने के लि‍ए चीन ने पि‍छले साल के मुकाबले इस क्षेत्र में इस बार दोगुनी कार्गो ट्रेन चलाने का फैसला लि‍या है।
 
शेंगदू इंटरनेशनल रेलवे सर्वि‍सेज कंपनी की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि‍ शेंगदू सि‍टी से चलने वाली ट्रेनों की संख्‍या दोगुनी की जाएगी। यहां से पोलैंड, नीदरलैंड और जर्मनी के लि‍ए पि‍छले साल कुल 450 ट्रेनें चली थीं। शि‍न्‍हुआ न्‍यूज एजेंसी के मुताबि‍क, इन ट्रेनों से चीन ने कुल 73,000 टन माल दूसरे देशों में पहुंचाया, जि‍सकी कीमत 1.56 अरब डॉलर है।
 
यहां से यूरोप के लि‍ए तीन बड़ी रेल लाइन शुरू करने की योजना है। एक रूट जर्मनी, पोलैंड और नीदरलैंड की ओर जाएगा। दक्षि‍णी रूट तुर्की और उसके आगे के देशों को कवर करेगा और उत्‍तरी रूट रूस के अलावा अन्‍य देशों को शामि‍ल करेगा।
 
कंपनी के चेयरमैन फेन जून ने कहा कि‍ शेंगदू को इस्‍तांबुल और मॉस्‍को से जोड़ने के लि‍ए नई लाइन का इस साल औपचारि‍क रूप से उद्घाटन कि‍या जाएगा। फेन ने कहा कि‍ इस्‍तांबुल पहुंचने में ट्रेन को 16 दि‍न और मॉस्‍को पहुंचने में 10 दि‍न लगेंगे। इन दोनों रूटों पर इस साल कुल 350 ट्रेनें चलेंगी।
 
चीन ने पि‍छले माह अपनी पहली मालगाड़ी लंदन के लि‍ए रवाना की थी। इसके साथ ही लंदन यूरोप का वह 15वां देश बन गया था, जि‍से चीन ने अपनी ट्रेन सेवा से जोड़ लि‍या है। समुद्री मार्ग से खतरों और हवाई मार्ग की महंगी लागत को देखते हुए यूरोप और चीन के बीच रेल मार्ग की जरूरत बीते कुछ सालों से महसूस की जा रही थी।
 
जून 2016 तक चीनी शहरों और यूरोप के बीच यह ट्रेनें करीब 2000 फेरे लगा चुकी थीं। कुल इंपोर्ट और एक्‍सपोर्ट वैल्‍यू करीब 17 अरब डॉलर थी। अपने एक्सपोर्ट और इकोनॉमी को रफ्तार देने के लि‍ए चीन ने अरबों की लागत से एक ग्‍लोबल कनेक्‍टि‍वि‍टी प्रोजेक्‍ट शुरू कि‍या है, जि‍सका नाम है वन बेल्‍ट वन रोड। इसे सि‍ल्‍क रोड के नाम भी जाना जाता है।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY