Home »Economy »Banking» Know How Veerappan Runs His Own Banking Service In The Forest

शातिर ‘बैंकर’ भी था वीरप्‍पन, जंगल में अब भी छिपा 30 हजार करोड़ का खजाना

 
नई दिल्‍ली।चंदन तस्‍कर वीरप्‍पन को एक ऐसे बेरहम अपराधी के तौर पर जाना जाता है, जिसके हाथ  अपने रास्‍ते में आने वाले किसी भी शख्‍स की हत्‍या पर नहीं कांपते थे, भले ही यह शख्‍स उसकी अपनी बेटी की क्‍यों न हो। हालांकि यह बहुत कम लोगों को पता होगा कि वीरप्‍पन बेरहम अपराधी होने के साथ ही एक शातिर बैंकर भी था। एक ऐसा बैंकर जिसने अपने पैसों को ऐसे छिपाकर रखा कि मरने के करीब 17 साल बाद भी 2 राज्‍यों का विशेष पुलिस दस्‍ता (STF) आज भी नहीं खोज पाया है। वीरप्‍पन पर आई किताब...
 
-  वीरप्‍पन का खात्‍मा करने वाले पुलिस अधिकारी के विजय कुमार ने चंदन तस्‍कर पर एक किताब लिखी है।
-  ‘वीरप्पन चेजिंग द ब्रिगैंड’ नाम की इस किताब में विजय कुमार ने वीरप्‍पन से जुड़े कई नए और पुराने पहलुओं पर रोशनी डाली है।
-  इसी में उसके 30 हजार करोड़ रुपए के खजाने और उसे छिपाने के तरीके के बारे में भी कई लोगों के हवाले से लिखा गया है।
-  इससे जाहिर होता है कि वीरप्‍पन एक शातिर बैंकर भी था और बैंकिंग करने के उसका अपना खास तरीका भी था।
 
आगे की स्‍लाइड में पढ़ें- वीरप्‍पन की बैंकिंग के बारे में... 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY