Home »Economy »Banking» CBI Books DGM And AGM Of Union Bank Of India

सीबीआई ने UBI के एजीएम-डीजीएम पर किया मुकदमा दर्ज, नोटबंदी के दौरान गड़बड़ी करने का है आरोप

सीबीआई ने UBI के एजीएम-डीजीएम पर किया मुकदमा दर्ज, नोटबंदी के दौरान गड़बड़ी करने का है आरोप
 
नई दिल्‍ली।सीबीआई ने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के डीजीएम और एजीएम पर नोटबंदी के दौरान नियमों का उल्‍लंघन करने के आरोप में केस दर्ज किया है। आरोप है कि इन्‍होंने कथित तौर पर नियमों की अनदेखी कर 85 करोड़ के कैश डिपोजिट को मंजूरी दी। इनके खिलाफ आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और भ्रष्‍टाचार की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है।
 
एफआईआर में मुंबई के ज्‍वैलर्स के नाम भी शामिल  
 
सीबीआई ने यूनियन बैंक के डेप्‍यूटी जनरल मैनेजर अशोक कुमार धबाई, एसिस्‍टेंट जनरल मैनेजर के. शिवशंकर राव के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है। शिवशंकर राव बैंक की जवेरी ब्रांच के मैनेजर भी हैं। इस एफआईआर में मुंबई स्थित पिहु गोल्‍ड के राकेश पटेल, सतनाम ज्‍वैलर्स के मयुर दीपक चावला और पुष्‍पक बुलियन प्राइवेट लिमिटेड के अमित संपत का नाम भी शामिल है। आरोप है कि पिछले साल 15 नवंबर और 26 दिसंबर को 47.45 करोड़ (तकरीबन) और 37.15 करोड़ (तकरीबन) धोखाधड़ी से दो प्राइवेट फर्म्‍स के अकाउंट में डिपोजिट दिखाया गया। इन फर्म्‍स के अकाउंट मुंबई स्थित यूनियन बैंक की जवेरी ब्रांच में ही हैं।
 
आरबीआई गाइडलाइंस का किया उल्‍लंघन
 
सीबीआई के प्रवक्‍ता आर.के. गौड़ ने बताया कि 85 करोड़ का ये कैश बैंक की करंसी चेस्‍ट में पुराने नोटों में ही जमा किया गया। यह काम फर्म्‍स के प्रतिनिधियों ने डीजीएम और एजीएम के साथ मिलकर किया। इन आरोपियों ने 8 नवंबर, 2016 को जारी आरबीआई गाइडलाइंस का उल्‍लंघन किया। उन्‍होंने बताया कि इसके बाद इन आरोपियों के 12 से ज्‍यादा ठिकानों पर छापे मारे गए। इस दौरान कई अहम दस्‍तावेज जांच एजेंसी के हा‍थ लगे। 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY