Home »Economy »Banking» Banks Rush To Buy Cyber Security Cover As Digi Payments Rise

ऑनलाइन फ्रॉड बढ़ने के बाद बैंकों में मची साइबर इंश्‍योरेंस लेने की होड़, बढ़ी डिमांड

ऑनलाइन फ्रॉड बढ़ने के बाद बैंकों में मची साइबर इंश्‍योरेंस लेने की होड़, बढ़ी डिमांड
 
मुंबई।नोटबंदी के बाद जिस तेजी से कैशलेस ट्रांजैक्‍शन बढ़ रहे हैं। उसी तेजी से अब साइबर इंश्‍योरेंस लेने वाले बैंकों के बीच भी होड़ लग गई है। साइबर थ्रेट्स के बढ़ते मामलों को देखते हुए बैंकों ने बड़ी संख्‍या में साइबर इंश्‍योरेंस और साइबर लाएब्लिटी इंश्‍योरेंस लेना शुरू कर दिया है। साइबर इंश्‍योरेंस का इंडस्‍ट्री बेस फिलहाल 60 करोड़ से भी कम है।
 
साइबर लाएब्लिटी इंश्‍योरेंस की है सबसे ज्‍यादा डिमांड
 
भारतीय स्‍टेट बैंक (एसबीआई) के साइबर फ्रॉड का शिकार होने के बाद बैंकों ने साइबर इंश्‍योरेंस लेने में तेजी दिखाई है। इंश्‍योरर्स के मुताबिक भारत में वैसे तो कई साइबर इंश्‍योरेंस मौजूद हैं, लेकिन इन सबसे में सबसे ज्‍यादा साइबर लाएब्लिटी इंश्‍योरेंस डिमांड में है। नॉन-लाइफ इंश्‍योरर्स जो साइबर इंश्‍योरेंस देते हैं। इसमें न्‍यू इंडिया, नेशनल, आईसीआईसीआई लॉम्‍बार्ड, टाटा एआईजी, एचडीएफसी एग्रो और बजाज आलियांज शामिल है।
 
एसबीआई कस्‍टमर्स के लिए इंश्‍योरेंस लेने पर कर रहा विचार  
 
एसबीआई अपने 30 करोड़ से भी ज्‍यादा कस्‍टमर्स के लिए इंश्‍योरेंस लेने पर विचार कर रहा है। एसबीआई के मैनेजिंग डायरेक्‍टर रजनीश कुमार ने कहा कि हमने अपने सभी आईटी डिपार्टमेंट हाईसिक्‍योरिटी के इंतजाम कर दिए हैं। इंश्‍योरेंस को लेकर उन्‍होंने कहा कि हम फिलहाल इस पर विचार कर रहे हैं। हम यह देख रहे हैं कि इंश्‍योरेंस पर आने वाला खर्च हमारी स्‍कीम के तहत आ जाए।
 
साइबर फ्रॉड की वजह से ब्‍लॉक किए 6 लाख डेबिट कार्ड
 
हाल ही में 32 लाख कस्‍टमर्स के डेबिट कार्ड साइबर फ्रॉड का शिकार हुए थे। जहां उनकी एटीएम डीटेल्‍स चोरी हो गई थी। इस फ्रॉड का सबसे ज्‍यादा असर एचडीएफसी, एसबीआई, यस बैंक और एक्सिस बैंक पर पड़ा था। इस फ्रॉड की वजह से बैंकों को कस्‍टमर्स को कार्ड या तो बदलने को कहना पड़ा या फिर उसके सिक्‍योरिटी कोड को बदलने की हिदायत दी गई। इसकी वजह से 6 लाख से भी ज्‍यादा डेबिट कार्ड भी ब्‍लॉक किए गए थे।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY