Home »Economy »Banking» Asset & MFI Business Is Down Because Of Noteban

नोटबंदी से MFI और एसेट कंपनियों का बिजनेस 15 फीसदी तक डाउन, लोन डिफॉल्ट बढ़े

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद टियर 2 और टियर 3 रूरल एरिया में फाइनेंस का काम करने वाली कंपनियों की हालत काफी खराब हो गई है। कंपनियों के अनुसार ज्यादातर लोन का बिजनेस कैश में होता है। खासतौर से पेमेंट कैश के रूप में मिलती है। नोटबैन के बाद कंपनियों के बिजनेस में 10 से 15 फीसदी तक की गिरावट आई है। नए लोन की डिमांड कम हुई है और पेमेंट डिफॉल्ट बढ़े हैं।
 
बिगड़ा कारोबारियों का बिजनेस साइकिल
 
फाइनेंस इंडस्ट्री डेवलपमेंट काउंसिल (एफआईडीसी) के चेयरमैन रमन अग्रवाल ने moneybhaskar.com ने बताया कि नोटबंदी के कारण कई छोटे करोबारियों और एमएसएमई के कैश फ्लो साइकिल पर असर पड़ा है। ये माइक्रो और छोटी यूनिट्स एनबीएफसी की क्लाइंट है। इससे पेमेंट मे देरी और नए लोन लेने वालों की संख्या कम हो गई है। इंडस्ट्री के मुताबिक नोटबंदी से माइक्रोफाइनेंस के कारोबार में में 10-15 फीसदी की गिरावट है।
 
नए लोन लेने वाले हुए कम
 
मूथूट फिन कॉर्प के माइक्रो फाइनेंस डिविजन के वरिष्ठ अधिकारी ने moneybhaskar.com बताया कि कंपनी का माइक्रोफाइनेंस का बिजनेस बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। नए लोन देने का काम काफी कम हो गया है। साथ ही पेमेंट डिफॉल्ट बढ़े हैं। अधिकारी के अनुसार उनके पेमेंट वीकली होते हैं। ज्यादातर लो इनकम वाले कैश डिफॉल्ट कर रहे हैं।
 
पुराने नोट में पेमेंट का मांग रहे हैं विकल्प
 
अधिकारी ने बताया कि ज्यादातर क्लाइंट पुराने नोट में ईएमआई चुकाने की बात कर रहे हैं। हमारे लिए पुराने नोट लेना संभव नहीं है। इसकी वजह से हमारा बिजनेस बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। अग्रवाल ने भी माना कि पुराने नोट में पेमेंट की मांग सभी क्लाइंट कर रहे हैं लेकिन अब ऐसा कर पाना नामुमकिन है जिसके कारण पेमेंट डिफॉल्ट हो रहे हैं।
 
आरबीआई ने नहीं मानी पुराने नोट लेने की मांग
 
नोटबंदी ने भले ही बैंकों को फायदा पहुंचाया हो लेकिन नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनीज (एनबीएफसी) को नुकसान पहुंचाया है। अग्रवाल ने कहा कि एफआईडीसी ने 14 नवंबर को आरबीआई से ये मांग की थी वह एनबीएफसी को पुराने को नोट लेने की इजाजत दे दे। ताकि पेमेंट डिफॉल्ट न हो लेकिन आरबीआई ने इजाजत नहीं दी।  
 
अगली स्लाइड में जानें – एफआईडीसी क्या कर रहा है मांग
 
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY