Home »Economy »Banking» Approval Given To RBI To Print Rs 10 Plastic Notes Says Government

10 रुपए के प्लास्टिक नोट के फील्‍ड ट्रायल को मंजूरी, शहरों का भी हुआ चयन

 
नई दिल्‍ली।भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) जल्‍द ही 10 रुपए के प्‍लास्टिक नोट ला सकता है। सरकार ने लोकसभा में बताया कि आरबीआई को इसके लिए फील्‍ड ट्रायल की अनुमति दी जा चुकी है। सरकार ने प्‍लास्टिक सब्‍सट्रेट की खरीद और 10 रुपए के प्‍लास्टिक नोट छापने के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है।
 
लोकसभा में दी जानकारी
लोकसभा में लिखित जवाब देते हुए वित्‍त राज्‍यमंत्री अर्जुन राम मेगवाल ने बताया कि देश के पांच हिस्‍सों में प्‍लास्टिक बैंक नोट का फील्‍ड ट्रायल करने का फैसला लिया गया है।
मेगवाल ने ये भी बताया कि मौजूदा और भविष्‍य में आने वाली टेक्‍नोलॉजी से जुड़े साइबर थ्रेट्स का पता लगाने के लिए इंटर डिसीप्लिनरी कमिटी बनाई गई है। ये कमिटी न सिर्फ साइबर खतरों का पता लगाएगी, बल्कि इनसे बचने के लिए मैकेनिज्‍म तैयार करने में भी मदद करेगी।
 
इनकी नकल करना होगा मुश्किल
इससे पहले, दिसंबर में मेगवाल ने लोकसभा में बताया था कि आरबीआई 10 रुपए के प्‍लास्टिक नोट लाने की तैयारी कर रहा है। उन्‍होंने बताया था कि प्लास्टिक के नोटों की उम्र 5 साल होती है और इनकी नकल करना मुश्किल होता है। 2014 में सरकार ने संसद को बताया था कि फील्ड ट्रायल के लिए शहरों का चयन क्लाइमेट और जिओग्राफिकल कंडीशन को देखते हुए किया गया है। पिछले साल सरकार ने जानकारी दी थी कि कोच्चि, मैसूर, जयपुर, शिमला और भुवनेश्वर का चयन फील्ड ट्रायल के लिए किया गया है।
 
 
 
30देशों में चलते हैं प्लास्टिक के नोट
दुनियाभर के 30 देशों में प्लास्टिक करंसी सर्कुलेशन में है। इन देशों में ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, इंडोनेशिया और कनाडा भी शामिल हैं। ऑस्ट्रेलिया में जाली नोटों की मुश्किल से निपटने के लिए प्लास्टिक करंसी सर्कुलेशन में लाई गई थी। हाल ही में ब्रिटेन ने भी 5 पाउंड के प्‍लास्टिक नोट सर्कुलेशन में आए हैं। बैंक ऑफ इंग्‍लैंड के मुताबिक ये नोट इतने मजबूत हैं कि इन्‍हें अगर चलती वाशिंग मशीन में भी डाल दिया जाए, तो भी इन्‍हें कुछ नहीं होगा। वाशिंग मशीन की स्पिन भी इसे कुछ नहीं कर पाएंगी।  इन नोट को फ्लेग्जिबल पॉलिमर प्‍लास्टिक पर तैयार किया गया है।
 
प्लास्टिक के नोटों में क्या है खास
प्‍लास्टिक नोट मौजूदा नोटों से काफी ज्‍यादा बेहतर होते हैं। बैंक ऑफ इंग्‍लैंड ने पॉलिमर नोट और कागज के नोटों की एक तुलात्मक रिसर्च कराई थी। रिसर्च में सामने आया कि प्लास्टिक करंसी के इस्तेमाल से कागज के नोटों को छापने में लगने वाला रॉ मैटेरियल बचता है। इनमें पेड़, पानी और ऊर्जा प्रमुख हैं। इस रॉ मैटेरियल के बचने का सीधा असर पर्यावरण पर पड़ता है। ग्लोबल वार्मिंग में कमी आती है। ऊर्जा की खपत भी कम होती है। प्लास्टिक के नोटों को री-साइकिल करके उनसे दूसरे प्रोडक्ट बनाए जा सकते हैं।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY