Home »Do You Know »Inflation »Facts» Know Wholesale Inflation, Its Effects And Scale

जानिए, क्‍या होती है थोक महंगाई दर, क्‍या है इसको मापने का पैमाना

नई दिल्‍ली।सामान्‍य तौर पर मार्केट में वस्‍तुओं की कीमतों में होने वाला बदलाव यानी इसमें आने वाला उतार-चढ़ाव महंगाई को दर्शाता है। जब वस्‍तुओं की कीमतें डिमांड और सप्‍लाई में अंतर की वजह से बढ़ जाती है तो ऐसी स्‍थति को महंगाई यानी (इन्‍फ्लेश्‍न) कहते हैं।
 
दूसरे शब्‍दों में हम कह सकते हैं कि महंगाई मार्केट में करेंसी की उपलब्‍धता और वस्‍तु की कीमतों को मापने का एक तरकीब भी है। देश में थोक महंगाई दर पिछले 10 महीनों से लगातार शून्‍य की स्थिति में बनी है। इसके आंकड़ों में गिरावट के बावजूद बाजार में खाने-पीने की चीजें महंगी बिक रही है। हम आपको विस्‍तारपूर्वक बताते हैं कि क्‍या होती है थोक महंगाई दर और इसको मापने का पैमाना क्‍या है।
 
क्‍या होती है थोक महंगाई दर
 
भारतीय इकोनॉमी में अहम नीतियों के निर्माण में थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर का इस्‍तेमाल किया जाता है। थोक बाजार में वस्‍तुओं के समूह की कीमतों में कितनी वृद्धि हुई है। इसका आकलन थोक मूल्य सूचकांक के जरिए किया जाता है। भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में थोक महंगाई दर की गणना 3 तरह की महंगाई, प्राथमिक वस्तुओं, फ्यूल और मैन्‍युफैक्चिरिंग प्रोडक्‍टस की महंगाई में बढ़त के आधार पर की जाती है। भारत में अभी भी वित्तीय और मौद्रिक नीतियों संबंधी कई फैसले थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई के हिसाब से ही होती है। जिसके आंकड़े हर माह वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय के द्वारा जारी किया जाता है। जो कि साल 2009 से पहले हर हफ्ते और प्रत्‍येक मंगलवार को जारी होता था। साथ ही थोक महंगाई दर को मापने का आधार वर्ष भी बदल दिया गया है। अब इसका आंकड़ा साल 2011-12 को आधार वर्ष मानकर तय किया जाता है।
 
अगली स्‍लाइड में पढ़िए, क्‍या है थोक महंगाई दर को मापने का पैमाना……….

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY