Home »Do You Know »Global Economy »Facts» El Nino Impairs Weather Condition Worldwide

जानिए, क्या है अल-नीनो, दुनियाभर में मौसम को कैसे करता है प्रभावित

 
नई दिल्‍ली। जब सर्दी के मौसम में भी गर्मी का अहसास होने लगे तो, यह अल नीनो के आने का संकेत है। क्‍योंकि, इससे जनजीवन तो प्रभावित होता ही है, इसका सबसे बुरा प्रभाव फसलों पर पड़ता है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार मौसम में यह बदलाव अल-नीनो की वजह से ही हो रहा है। पिछले सौ साल के इतिहास पर यदि नजर डालें तो अल नीनो का असर साल 2015 में सबसे ज्‍यादा दिखा और 2016 में भी इसका असर दिखना शुरू हो गया है।
 
अल नीनो की वजह से ही पूरे भारत में जाड़े में भी अधिक तापमान का सामना करना पड़ रहा है। जबकि इस समय कड़ाके की ठंड पड़नी चाहिए थी। जबकि तापमान सामान्‍य से 4-5 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा है। पश्चिमी राजस्‍थान में तो तापमान सामान्‍य से 8 डिग्री सेल्सियस तक अधिक रहा है। पिछले कई साल से भारत में सर्दियों के मौसम में भी तापमान अधिक रहा है।
 
वैज्ञानिक मौसम में आए इस बदलाव के लिए ग्‍लोबल, रीजनल एवं लोकल फैक्‍टर को जिम्‍मेदार मान रहे हैं। भारत में सर्दियों में गर्मी के इस अहसास को मौसम के वैश्विक पैटर्न का हिस्‍सा माना जा रहा है, जो हजारों मील दूर समुद्री जल के एक असामान्‍य वार्मिंग की वजह से पैदा हुआ है। भारत में अल नीनो का असर कम मानसून के रूप में महसूस किया जा रहा है।
 
अगली स्‍लाइड में जानिए, क्‍या होता है अल नीनो  और मौसम को कैसे करता है प्रभावित.... 
 
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY