Home »News Room »Corporate» Inflation Has Eaten Up The Savings

बचत को खा गई महंगाई

बचत को खा गई महंगाई

बचत को खा गई महंगाई

<> राष्ट्रीय बचत की दर जीडीपी का 30%  या उससे भी कम रह सकती है चालू वित्त वर्ष में
<> 30.8%(जीडीपी का) रही थी नेशनल सेविंग्स रेट गत वित्त वर्ष (2011-12) में
<> 36.9% तक पहुंच गई थी घरेलू बचत की दर वित्त वर्ष 2007-08 में
<> 33.8%रही वित्त वर्ष 2009-10 में
<> जीडीपी के 5.3% तक पहुंच चुके चालू खाते के घाटे (सीएडी) में बचत दर घटने से और उछाल आएगा
<> 4.7 %रही है प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोतरी वित्त वर्ष 2011-12 के दौरान वास्तविक कीमतों पर, उससे पिछले वर्ष में यह 7.2% थी।
<> 13.7%की बढ़ोतरी प्रतिव्यक्ति आय में रही 2011-12 में मौजूदा कीमतों के आधार पर 2010-11 के मुकाबले

सेक्टर्स की वृद्धि दर (चालू वित्त वर्ष में)
मैन्यूफैक्चरिंग: पहली छमाही की 0.5% के मुकाबले दूसरी छमाही में 3.1%
कंस्ट्रक्शन, फाइनेंस, इंश्योरेंस, रियल्टी: पहली छमाही की 8.8 से घटकर 3.3%
बिजनेससर्विसेज : पहली छमाही की 10.1% से घटकर दूसरी छमाही में 7.3%

जीडीपी
5-6 % रह सकती है चालू वित्त वर्ष में रफ्तार
4 % वृद्धि दर रही थी वित्त वर्ष2002-03 में
9.6 %विकास दर थी 2006-07 में
9.3 %रही थी वित्त वर्ष 2009-10 में

 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY