Home »News Room »Corporate» 27 And Notice The Delay In Producing Coal Block

उत्पादन में देरी पर 27 और कोल ब्लॉक को नोटिस

उत्पादन में देरी पर 27 और कोल ब्लॉक को नोटिस

सख्ती
अंतर मंत्रालयी समूह की सिफारिश के बाद सरकार ने उठाया कदम
ब्लॉक विकसित करने में असफल रहने पर २१ से मांगा स्पष्टीकरण

केंद्रसरकार ने 27 कोल ब्लॉक आवंटियों को उत्पादन में देरी के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है और साथ ही 21 खान मालिकों को समय पर विकास न कर पाने के लिए स्पष्टीकरण मांगा है।  

कोल मंत्रालय के एक उच्चाधिकारी ने कंपनियों के नाम न उजागर करते हुए बताया कि मंत्रालय ने यह फैसला इसी सप्ताह लिया है। अधिकारी ने बताया,'मंत्रालय ने २७ कोल ब्लॉक आवंटियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने का फैसला किया है, वहीं २१ अन्य खान मालिकों से समय पर ब्लॉक का विकास न होने पर स्पष्टीकरण मांगने का निर्णय लिया है।

' एक अंतर-मंत्रालयी समूह (आईएमजी) द्वारा जिंदल स्टील एंड पावर, हिंदुस्तान जिंक और अल्ट्राटेक को ४० से अधिक खानों में उत्पादन में देरी के लिए कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश के बाद मंत्रालय ने यह कदम उठाया है।  

आईएमजी ने पिछले महीने ५६ कोल ब्लॉक की प्रोग्रेस जांची थी और उनमें से करीब ४० के खिलाफ कारण बताओ नोटिस की सिफारिश की थी।

जिन कंपनियों के खिलाफ कारण बताओ नोटिस की सिफारिश की गई थी उनमें जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड और नलवा स्पंज आयरन लिमिटेड को आवंटित गेर पाल्मा आईवी/६ कोल ब्लॉक, मदनपुर नॉर्थ कोल कंपनी (अल्ट्राटेक व अन्य का एक संयुक्त उद्यम)  को आवंटित मदनपुर नॉर्थ कोल ब्लॉक और मदनपुर साउथ कोल कंपनी (हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड व अन्य का एक संयुक्त उद्यम) को आवंटित मदनपुर साउथ कोल ब्लॉक शामिल हैं। इनके अतिरिक्त पैनेल ने छत्तीसगढ़ कैप्टिव कोल कंपनी को आवंटित नाकिया 1 और नाकिया 2 कोल ब्लॉक तथा मध्य प्रदेश स्टेट माइनिंग कॉर्पोरेशन को आवंटित मोरगा 4 ब्लॉक भी शामिल हैं।

कमेटी द्वारा पिछले साल के निरीक्षण में इन कोल ब्लॉक की प्रोग्रेस को उत्पादन में देरी के कारण असंतुष्टिकारक पाया गया था। कोल मंत्रालय ने हाल ही में एनटीपीसी, जीवीके पावर और मोनेट इस्पात समेत ३० कैप्टिव कोल ब्लॉक आवंटियों को समय पर ब्लॉक विकसित करने में असफल रहने पर नोटिस जारी किया था।

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY