CORPORATE
Home » News Room » Corporate »देश में 9,000 व्हाइट लेबल एटीएम स्थापित करेगी मुथूट फाइनेंस
Randy Thurman
एक पैसा बचाने का मतलब दो पैसा कमाना जरूर है लेकिन टैक्स चुकाने के बाद।
Breaking News:
  • दो अंबेडकर स्मारकों के लिए जमीन दी जाएगी: नरेंद्र मोदी
  • भारत विश्व कल्याण के लिए सोचता है: नरेंद्र मोदी
  • भारत की बेटियों ने देश का नाम रौशन किया: नरेंद्र मोदी
  • गरीब के बच्चे अनपढ़ नही रहेंगे: नरेंद्र मोदी
  • मुश्किल की इस घड़ी में भारत नेपाल के साथ है: नरेंद्र मोदी
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में नेपाल भूकंप पर संवेदनाएं व्यक्त की

विस्तार
छोटे शहरों में लगाए जाएंगे यह एटीएम
आवासीय ऋण के क्षेत्र में रखेगी कदम
कर रही है रिजर्व बैंक की अनुमति का इंतजार
छोटे शहरों में लगाए जाएंगे यह एटीएम

भारत में सोने के एवज में कर्ज देनेवाली अग्रणी लोन कंपनी मुथूट फाइनेंस अपने लिए अवसर तलाशने में लगी है। कंपनी अगले तीन सालों में देश के छोटे शहरों में 9,000 व्हाइट लेबल एटीएम स्थापित करने की योजना बना रही है। इसके लिए उसे रिजर्व बैंक की अनुमति का इंतजार है। इतना ही नहीं कंपनी की आवास ऋण और नेशनल पेंशन स्कीम जैसे नए क्षेत्रों में प्रवेश करने की तैयारी भी है।


कंपनी के प्रबंध निदेशक जॉर्ज अलेक्जेंडर मुथूट ने बताया कि कंपनी अपने बिजनेस मॉडल के हिसाब से इसे उचित मानती है। रिजर्व बैंक गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों को व्हाइट लेबल एटीएम लगाने की अनुमति पहले ही दे चुका है। देश में सालाना आधार पर एटीएम की संख्या में 30 फीसदी का इजाफा दर्ज किया जा रहा है। इसके मद्देनजर गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए एटीएम सेक्टर में अच्छी संभावनाएं मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि इस समय देश में एक लाख से ज्यादा एटीएम हैं।


मुथूट ने कहा कि रिजर्व बैंक के तमाम प्रयासों के बाद भी गांवों और छोटे शहरों में अभी भी एटीएम की पहुंच काफी कम है। यही कारण है कि गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों को इसमें लाया गया है। मुथूट फाइनेंस के 50 लाख ग्राहक, 4 हजार आउटलेट्स और 60 फीसदी शाखाएं छोटे और कस्बाई क्षेत्रों में मौजूद हैं। कंपनी इसी आधार पर व्हाइट लेबल एटीएम प्रोजेक्ट शुरू करेगी।


इसके तहत अगले तीन साल में 9000 एटीएम लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि छोटे शहरों में मौजूद हमारे ग्राहकों के जरिए इस परियोजना को पूरा करने में हमें मदद मिलेगी। साथ ही अन्य सेक्टर में कदम रखने के लिए हमें रिजर्व बैंक की अनुमति का इंतजार है जो कि उम्मीद है जल्द ही मिलेगी।

Email Print Comment