AGRI
Home » Market » Commodity » Agri »Wheat Exports To 25 Million Tonnes And Proposed Government Warehouse
Jim Cramer
दुनिया में डर कर किसी ने एक चवन्नी भी नहीं कमाई।
Breaking News:
  • अडानी ग्रुप का डीमर्जर 1 अप्रैल से लागू होगा।
  • अडानी माइनिंग का कंपनी में विलय होगा।
  • अडानी ट्रांसमिशन को बीएसई व एनएसई पर लिस्ट कराया जाएगा।
  • अडानी एंटरप्राइजेज के बोर्ड ने डायवर्सिफाइड कारोबार के डीमर्जर को मंजूरी दी
  • कोल इंडिया का ओएफएस हुआ पूरा सब्सक्राइब
  • अडानी ग्रुप ने रिस्ट्रक्‍चरिंग का ऐलान किया
सरकारी गोदाम से 25 लाख टन और गेहूं निर्यात प्रस्तावित

गेहूं निर्यात के प्रस्ताव पर सीसीईए की अगली बैठक में फैसला संभव

घरेलू उपलब्धता
पहली दिसंबर को केंद्रीय पूल में 376.52 लाख टन गेहूं का स्टॉक
बफर मानक के मुकाबले देश में कई गुना ज्यादा गेहूं सुलभ
पहली जनवरी को 82 लाख टन गेहूं का स्टॉक होना चाहिए
अप्रैल में गेहूं की नई फसल की आवक शुरू हो जाएगी

केंद्रीय पूल से सार्वजनिक कंपनियों के माध्यम से अभी तक 18 लाख टन गेहूं निर्यात के लिए निविदा जारी हो चुकी है। जबकि सरकार ने केंद्रीय पूल से 20 लाख टन गेहूं के निर्यात की अनुमति दी थी। खाद्य मंत्रालय ने केंद्रीय पूल से और 25 लाख टन और गेहूं के निर्यात का प्रस्ताव किया है जिस पर फैसला आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीईए) की अगली बैठक में होने की संभावना है।


खाद्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय पूल से सार्वजनिक कपंनियों एसटीसी, एमएमटीसी और पीईसी द्वारा अभी तक करीब 18 लाख टन गेहूं निर्यात की निविदा को अंतिम रूप दिया जा चुका है। जबकि सरकार ने 20 लाख टन गेहूं के निर्यात की अनुमति दी थी।


केंद्रीय पूल में गेहूं के भारी-भरकम स्टॉक और अंतरराष्ट्रीय बाजार में ऊंचे भाव को देखते हुए मंत्रालय ने और 25 लाख टन गेहूं के निर्यात का प्रस्ताव तैयार किया है। इस पर फैसला आगामी कैबिनेट कमेटी की बैठक में होने की संभावना है।


उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में गेहूं की सप्लाई तंग होने से दाम ऊंचे बने हुए हैं। भारतीय गेहूं का निर्यात 296 डॉलर से 322 डॉलर प्रति टन के बीच हो रहा है। इस समय बांग्लादेश, दक्षिण कोरिया, यमन, थाईलैंड, वियतनाम, इंडोनेशिया और ओमान की गेहूं में आयात मांग अच्छी बनी हुई है।


भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के अनुसार पहली दिसंबर को केंद्रीय पूल में 376.52 लाख टन का भारी-भरकम स्टॉक बचा हुआ है जो तय बफर मानकों के मुकाबले कई गुना ज्यादा है। बफर मानक के अनुसार पहली जनवरी को सरकारी गोदामों में 82 लाख टन गेहूं का स्टॉक होना चाहिए। वैसे भी अप्रैल 2013 में गेहूं की नई फसल की आवक शुरू हो जाएगी।


कृषि मंत्रालय के अनुसार वर्ष 2011-12 में 939 लाख टन गेहूं का उत्पादन हुआ था जबकि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर एफसीआई ने गेहूं की रिकॉर्ड खरीद 380.23 लाख टन की थी। कृषि मंत्रालय ने चालू रबी में गेहूं की पैदावार 860 लाख टन होने का लक्ष्य तय किया है। हालांकि चालू रबी में अभी तक देशभर में 183.35 लाख हैक्टेयर में गेहूं की बुवाई हो चुकी है जो पिछले साल की समान अवधि के 181.67 लाख टन से ज्यादा है।

  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
Email Print Comment