Q AND A
Home » Q And A »What Is Msf?
Henry Ford
ऐसा कारोबार जो सिर्फ पैसा बनाए,वह बेकार है।
क्या है एमएसएफ?

रिजर्व बैंक ने 2011-12 की मौद्रिक नीति में एमएसएफ यानि मार्जिनल स्टैंडिंग फेसिलिटी शुरू करने की घोषणा की। इस सुविधा के तहत बैंक केंद्रीय बैंक से 8.25 फीसदी की दर पर कर्ज ले सकते हैं। यह सुविधा कम अवधि की संपत्ति देनदारियों के निपटान के लिए शुरू की है।


हालांकि बैंकों के पास एलएएफ रेपो रेट पर भी केंद्रीय बैंक से कर्ज लेने का विकल्प उपलब्ध है। इसके तहत कर्ज लेने के लिए बैंकों को अपने एसएलआर को अनिवार्य रूप से 24 फीसदी रखना होगा। साथ ही सरकारी प्रतिभूतियों को भी गिरवी रखना होगा।


इसकी दर 7.25 फीसदी रखी गई है। बैंकों को अगर तत्काल कर्ज की जरूरत होती है वे इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। बैंक या वित्तीय संस्थान रातभर के लिए भी केंद्रीय बैंक से एमएसएफ की सुविधा के अनुसार कर्ज ले सकते हैं। बैंक इस सुविधा के तहत कम से कम एक करोड़ रुपये का कर्ज ले सकते हैं। इससे बैंकों या वित्तीय संस्थानों को कई तरह के फायदे हैं।


सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे बैंकों को तत्काल और कम अवधि के लिए कर्ज मिल जाता है। रिजर्व बैंक को इससे यह फायदा होता है कि बाजार में लिक्विडिटी बनाए रखने में यह काफी कारगर साबित होता है और एक तरह से बाजार को नियंत्रित करने का एक तरीका भी रिजर्व बैंक के पास होता है।

Email Print
0
Comment