UPDATE
Home » Income Tax » Update »कर लाभ के साथ अच्छे रिटर्न के लिए लें ईएलएसएस
Peter Drucker
मुनाफा किसी कंपनी के लिए उसी तरह है जैसे एक व्यक्ति के लिए ऑक्सीजन।
कर लाभ के साथ अच्छे रिटर्न के लिए लें ईएलएसएस

हालांकि, भारत अपने वैश्विक प्रतिस्पद्र्धियों से लगातार आगे बढ़ रहा है, लेकिन क्या इस विकास से आम आदमी की जिंदगी में बदलाव आया है और संपत्ति निर्माण में मदद मिली है? हमारे दैनिक जीवन में कुछ ही ऐसे लोग हैं, जिन्हें इस विकास का सीधा लाभ मिला है।


क्या कोई ऐसा तरीका है, जिससे व्यक्तिगत निवेशक या वर्तमान गैर-निवेशक सही मायने में अपनी संपत्ति की वृद्धि का अनुभव कर सकें? इसका उत्तर है-प्लानिंग और अधिक महत्वपूर्ण रूप से वित्तीय प्लानिंग। आज, निवेशकों के लिए तरह-तरह के निवेश विकल्प और परिसंपत्ति वर्ग उपलब्ध हैं। हालांकि, इन सभी उपलब्ध विकल्पों में से, म्यूचुअल फंडों के जरिए इक्विटी में भागीदारी लंबी अवधि में संपत्ति निर्माण के लिए सबसे बेहतर संभावना उपलब्ध कराती है।


हालांकि, इक्विटी में सीधा निवेश एक विकल्प है, फिर भी खुदरा निवेशकों के लिए म्यूचुअल फंडों के जरिए इक्विटी में निवेश स्पष्ट रूप से बेहतर है, चूंकि उन्हें विशेषज्ञ फंड प्रबंधन और रिस्क के डाइवर्सिफिकेशन का लाभ मिलता है। म्यूचुअल फंडों के भीतर, ईएलएसएस (इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम्स), जो कर बचत का अतिरिक्त लाभ प्रदान करती है, उन निवेशकों के लिए उपयुक्त निवेश विकल्प है, जो संपत्ति निर्माण करने के साथ-साथ आयकर में बचत का लाभ पाना चाहते हैं।


ईएलएसएस एक म्यूचुअल फंड बचत योजना है, जो प्रमुख रूप से इक्विटी में निवेश करती है और निवेशकों को अपेक्षित रिटर्न के साथ-साथ कर लाभ भी प्रदान करती है। ईएलएसएस को आयकर अधिनियम, १९६१ की धारा ८०सी के तहत कर से छूट प्राप्त है। ईएलएसएस में निवेश को निवेश, जमा और निकासी के तीनों चरणों के दौरान ईईई (एक्जेंप्ट एक्जेंप्ट एक्जेंप्ट) का लाभ प्राप्त है। इसमें एंट्री और एक्जिट लोड शून्य है और इसकी लॉक-इन अवधि भी सबसे कम अर्थात ३ वर्ष की है। इसलिए, आप ईएलएसएस के जरिए ३ वर्षों के बाद पूरी तरह से कर-रहित जोखिम समायोजित रिटर्न पा सकते हैं।


ईएलएसएस में निवेश का एक उपयुक्त तरीका है-सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (सिप) के जरिए निवेश। जैसा कि नाम से पता चलता है, सिप एक निश्चित राशि को नियमित रूप से म्यूचुअल फंडों में निवेश करने का तरीका है। वर्ष के अंत में एकमुश्त निवेश करने की जगह अच्छा यह रहेगा कि सिप के जरिए पूरे वर्ष भर निवेश करते रहें, चूंकि इससे निवेश से संवेदनाओं को अलग करने, जोखिम को डाइवर्सिफाइ और कम करने के साथ ही चक्रवृद्धि का लाभ प्राप्त करने में मदद मिलती है। कर बचत और इक्विटी में दीर्घकालिक निवेशों से संभावित रिटर्न के दोहरा लाभ की इच्छा रखने वाले निवेशकों को ईएलएसएस म्यूचुअल फंडों में निवेश से अच्छा लाभ मिलेगा।


जो प्लान इस श्रेणी में लगातार अग्रणी रहे हैं, उनमें से एक है-आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल प्लान, जिसने बेंचमार्क और इस श्रेणी में औसत से बढ़कर लगातार प्रदर्शन किया है। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल टैक्स प्लान एक ओपन एंडेड इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम है, जो दीर्घकालिक पूंजी वृद्धि की संभावना वाले बड़े और मझोले आकार के शेयरों के मिश्रण में निवेश करता है। इसके अलावा कई अन्य ईएलएसएस भी हैं जिनका चयन आप उनके प्रदर्शन को देखते हुए कर सकते हैं।


सारांश यह है कि बचत को निवेश में और महत्वाकांक्षाओं का हकीकत में परिवर्तन सुनिश्चित करने के लिए वित्तीय प्लानिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। ईएलएसएस स्कीम जैसे म्यूचुअल फंड आपको आपके लक्ष्य के करीब पहुंचाने में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
संकरन नरेन - लेखक आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एएमसी के इक्विटी- फिक्स्ड इनकम के सीआईओ हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
9 + 5

 
Email Print Comment