PROPERTY
Home » Property »Ri - Be Careful While Investing In The Property Sale
Warren Buffett
निवेश की दुनिया में भव‍िष्‍य के बजाय अतीत को देखना ज्‍यादा बड़ी समझदारी है।
री-सेल वाली प्रॉपर्टी में निवेश करते वक्त रहें सचेत

जितनी पुरानी होगी प्रॉपर्टी, उतना ही कम मिलेगा बैंक से कर्ज


री-सेल वाली प्रॉपर्टी खरीदते वक्त सभी दस्तावेज मौजूद होना जरूरी
प्रॉपर्टी का टाइटल होना  चाहिए क्लियर वरना लोन  लेने में होगी दिक्कत
डीलर के माध्यम से प्रॉपर्टी खरीदें पर मालिक से भी संपर्क करना जरूरी
प्रॉपर्टी पर नहीं होना चाहिए किसी बैंक का कर्ज, जांच के बाद ही करें बुक

घर खरीदने का सपना तो सभी देखते हैं पर कई बार फंड की कमी के चलते इस सपने को पूरा करना मुश्किल लगने लगता है। अगर आपको कोई इलाका हद से ज्यादा पसंद आ रहा है पर यहां नई प्रॉपर्टी महंगी है तो आप यहां री-सेल वाली प्रॉपर्टी में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं।


री-सेल वाली प्रॉपर्टी खरीदने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको आपकी पसंदीदा लोकेशन पर किफायती दामों में रेजीडेंशियल प्रॉपर्टी मिल जाएगी। हालांकि जब आप ऐसी किसी प्रॉपर्टी में निवेश करते हैं जो री-सेल में उपलब्ध है तो इसके लिए कुछ अतिरिक्त औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ती है। री-सेल वाली प्रॉपर्टी में निवेश करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।


जमीन का टाइटल
री-सेल वाली प्रॉपर्टी की सेल डीड में प्रॉपर्टी का टाइटल उतना स्पष्ट नहीं होता है जितना किसी नई प्रॉपर्टी में आपको मिलेगा। ऐसी प्रॉपर्टी में निवेश करने के लिए आपको इसके मालिकों के टाइटल की सूची की जरूरत पड़ेगी। कहने का मतलब यह है कि,  हो सकता है कि प्रॉपर्टी के मौजूदा मालिक ने भी यह प्रॉपर्टी री-सेल में खरीदी हो, ऐसी स्थिति में प्रॉपर्टी का टाइटल बिलकुल क्लियर होना चाहिए।


इसके अलावा प्रॉपर्टी से संबंधित दस्तावेज स्टैम्प्ड होने चाहिए वरना आपको इस पर बैंक लोन मिलने में दिक्कत होगी। शाही इंफ्राबिल्ड प्राइवेट लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर और प्रॉपर्टी विशेषज्ञ अमित शाही के मुताबिक री-सेल वाली प्रॉपर्टी में निवेश करने वाले लोगों को ध्यान रखना चाहिए प्रॉपर्टी से संबंधित सभी दस्तावेज और इसके लिए किए गए भुगतान की सारी रसीदें मौजूद हों।


घर के मालिक से संपर्क जरूरी
अगर आप किसी डीलर के माध्यम से प्रॉपर्टी खरीद रहे हैं तो भी प्रॉपर्टी के वास्तविक मालिक से मिलना जरूरी हो जाता है। शाही के मुताबिक कई बार देखा जाता है कि डीलर प्रॉपर्टी मालिक से तो कम कीमत पर प्रॉपर्टी खरीदते हैं पर निवेशक से इसके लिए ज्यादा कीमत वसूलते हैं, जिससे वे बीच में मोटा मुनाफा कमा सकें। यही कारण है कि खरीदार को प्रॉपर्टी के मालिक से जरूर मिल लेना चाहिए। इससे उन्हें बेहतर डील मिल सकती है।


प्रॉपर्टी पर ब्याज न हो बकाया
ऐसा कई बार देखा गया है कि कुछ लोग प्रोजेक्ट की लांचिंग के वक्त ही बुकिंग राशि देकर प्रॉपर्टी बुक करा लेते हैं। इसके बाद किसी और राशि का भुगतान नहीं करते हैं। ऐसी स्थिति में संभव है कि बिल्डर ने बकाया भुगतान पर ब्याज लगा दिया हो जिसके बारे में आपको जानकारी नहीं है। शाही के मुताबिक इस बात की जांच करनी भी जरूरी है। साथ ही यह देखना भी महत्वपूर्ण है कि जिस प्रॉपर्टी में आप निवेश करने की तैयारी में हैं उसके लिए  बिल्डर ने कैंसिलेशन लेटर तो जारी नहीं किया है।


फंडिंग की तैयारी
जब आप री-सेल वाली प्रॉपर्टी में निवेश कर रहे हैं तो ध्यान रखना चाहिए कि बैंक इस पर उस तरह से लोन नहीं उपलब्ध कराते हैं जैसा कि नई प्रॉपर्टी खरीदने की स्थिति में होता है। क्रेडाई-एनसीआर के वाइस प्रेसिडेंट और आम्रपाली ग्रुप के सीएमडी  अनिल शर्मा के मुताबिक आप जिस प्रॉपर्टी को खरीदने की तैयारी में हैं उसकी कीमत का सीधा संबंध आपकी लोन एलिजिबिलिटी से है। अगर आपकी प्रॉपर्टी की कीमतें भविष्य में नीचे आने की संभावना है तो बैंक आपको इसकी मार्केट वैल्यू से कम ही फंड उपलब्ध कराएगा।


इसके लिए बाकी के फंड का इंतजाम आपको खुद ही करना होगा। ऐसी स्थिति में अच्छा यही रहेगा कि आप घर खरीदने से पहले किसी तकनीकी विशेषज्ञ से इस प्रॉपर्टी का वैल्यूएशन करा लें और इसके बाद ही फंड के लिए बैंक से संपर्क करें। प्रॉपर्टी जितनी पुरानी होगी आपको इसके लिए उतनी ही ज्यादा डाउन पेमेंट करनी होगी।


इतना ही नहीं, कुछ बैंक ने ऐसी प्रॉपर्टी पर लोन देने के लिए  सीमा भी तय कर रखी है। उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कि किसी रेजीडेंशियल प्रॉपर्टी पर बैंक केवल 50 साल ही लोन देंगे  या फिर इससे भी कम। आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप बहुत पुरानी प्रॉपर्टी में तो निवेश न करें।


प्रॉपर्टी पर कर्ज की जांच
री-सेल वाली प्रॉपर्टी को बुक करने के लिए जब आप टोकन के तौर पर कुछ राशि का भुगतान करे तो उससे पहले इस बात की जांच जरूर कर लेनी चाहिए कि इस पर कोई कर्ज न हो।  ऐसा न हो कि बुकिंग बाद जब लोन के आवेदन की बारी आए तो पता चले कि इसके दस्तावेज किसी बैंक के पास हैं।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
2 + 6

 
Email Print Comment