AGRI
Home » Market » Commodity » Agri »Procurement Of Rice Increased By 5% To 160 Million Tonnes
Ronald Reagan
लोग कम टैक्स नहीं चुकाते, दरअसल सरकारें खर्च बहुत करती हैं।
Breaking News:
  • भूमि अधिग्रहण के मुआवजे को लेकर कोई विवाद नहीं। किसान की जमीन को लेकर कोई समझौता नहीं : पीएम मोदी
  • आतंकवाद पर समझौता बर्दाश्त नहीं : पीएम मोदी
  • पड़ोसी देशों के साथ मजबूत संबंध बनाना चाहता हूं : पीएम मोदी
  • भूमि अधिग्रहण कानून की अड़चनों को खत्म करने के लिए सभी दलों के सुझाव आमंत्रित : पीएम मोदी
  • रोजगार पैदा करना भारत की जरूरत है : पीएम मोदी

पिछले अक्टूबर से चालू मार्केटिंग वर्ष 2012-13 के दौरान अब तक चावल की खरीद 160.5 लाख टन तक पहुंच गई। यह खरीद पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले करीब 5 फीसदी ज्यादा है। पिछले खरीफ सीजन में शुरूआती मानसून कमजोर रहने से चावल की पैदावार घटने के अनुमान के बावजूद सरकारी खरीद ज्यादा हुई है।


खाद्यान्न की खरीद और वितरण की नोडल एजेंसी भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) ने पिछले सीजन में समान अवधि के दौरान 153.6 लाख टन चावल की खरीद की थी। इस साल चावल का उत्पादन घटकर 855.9 लाख टन रहने का अनुमान है जबकि पिछले खरीफ सीजन में 915.3 लाख टन उत्पादन रहा था।


पंजाब में सबसे ज्यादा खरीद हुई है। वहां इस साल 85.4 लाख टन चावल की खरीद हो चुकी है जबकि पिछले साल समान अवधि में 76.6 लाख टन खरीद हुई थी। दूसरे नंबर पर रहे हरियाणा में 25.7 लाख टन खरीद हुई है। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में 17.4 लाख टन और आंध्र प्रदेश में 13.9 लाख टन चावल की सरकारी खरीद हुई है।

Email Print Comment