AGRI
Home » Market » Commodity » Agri »Procurement Of Rice Increased By 5% To 160 Million Tonnes
Randy Thurman
एक पैसा बचाने का मतलब दो पैसा कमाना जरूर है लेकिन टैक्स चुकाने के बाद।

पिछले अक्टूबर से चालू मार्केटिंग वर्ष 2012-13 के दौरान अब तक चावल की खरीद 160.5 लाख टन तक पहुंच गई। यह खरीद पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले करीब 5 फीसदी ज्यादा है। पिछले खरीफ सीजन में शुरूआती मानसून कमजोर रहने से चावल की पैदावार घटने के अनुमान के बावजूद सरकारी खरीद ज्यादा हुई है।


खाद्यान्न की खरीद और वितरण की नोडल एजेंसी भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) ने पिछले सीजन में समान अवधि के दौरान 153.6 लाख टन चावल की खरीद की थी। इस साल चावल का उत्पादन घटकर 855.9 लाख टन रहने का अनुमान है जबकि पिछले खरीफ सीजन में 915.3 लाख टन उत्पादन रहा था।


पंजाब में सबसे ज्यादा खरीद हुई है। वहां इस साल 85.4 लाख टन चावल की खरीद हो चुकी है जबकि पिछले साल समान अवधि में 76.6 लाख टन खरीद हुई थी। दूसरे नंबर पर रहे हरियाणा में 25.7 लाख टन खरीद हुई है। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में 17.4 लाख टन और आंध्र प्रदेश में 13.9 लाख टन चावल की सरकारी खरीद हुई है।

Email Print Comment