MARKET
Home » Experts » Market »यूपी व बिहार में धान की सरकारी खरीद न होने का मुद्दा संसद में
Randy Thurman
एक पैसा बचाने का मतलब दो पैसा कमाना जरूर है लेकिन टैक्स चुकाने के बाद।
Breaking News:
  • मैन्युफैक्चरिंग में प्रतिस्पर्धी होने की जरूरत : जेटली
  • भारत बड़ी चुनौतियों और व्यापक अवसरों की दहलीज पर खड़ा है: वित्त मंत्री अरुण जेटली
  • 2020 तक तेल और गैस पर निर्भरता 10 फीसदी कम करेंगे : मोदी
  • राज्यों को बंजर भूमि पर जटरोफा की खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित किया गया : मोदी
  • डीजल की कीमतों को बाजार के हवाले करने के फैसले को देश ने स्वीकार किया : मोदी
  • आने वाले वर्षों में एक करोड़ परिवार तक पाइपलाइन के जरिए गैस आपूर्ति करने का लक्ष्य : मोदी
  • पीएम मोदी ने स्वत: एलपीजी सब्सिडी सरेंडर करने के लिए ‘गिव इट अप’ प्लान लांच किया
  • अभी तक 2.8 लाख लोगों ने स्‍वत: एलपीजी सब्सिडी छोड़ दी है: मोदी
  • जो लोग मार्केट भाव पर एलपीजी सिलेंडर खरीद सकते हैं, उन्‍हें सब्सिडी छोड़ देनी चाहिए: पीएम मोदी

नई दिल्ली - उत्तर प्रदेश, बिहार और कुछ अन्य राज्यों में धान की सरकारी खरीद न होने से किसानों के सामने आ रही दिक्कतों पर लोकसभा सदस्यों ने चिंता जताई है। सांसदों द्वारा यह मुद्दा उठाने पर सरकार ने आश्वासन दिया है कि इस परेशानी का समाधान निकालने के लिए संबंधित राज्यों की बैठक बुलाई जाएगी।


धान की खरीद न होने का मुद्दा पहले कांग्रेस के सांसद जगदंबिका पाल ने उठाया। इसके बाद समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल और भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने उनका समर्थन किया।


सपा और राजद के कुछ सदस्य सरकार के तुरंत बयान की मांग करते हुए सदन के कूप में भी आ गए। इसके बाद वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि सरकार जल्दी ही संबंधित राज्यों की बैठक बुलाकर समस्या का समाधान निकालेगी। लेकिन सांसद वित्त मंत्री के इस आश्वासन से संतुष्ट नहीं हुए और वे हंगामा करने लगे। (प्रेट्र)

Email Print Comment