AGRI
Home » Market » Commodity » Agri »Prices Of Mustard Acreage Decreases Mp Shine
Warren Buffett
निवेश की दुनिया में भव‍िष्‍य के बजाय अतीत को देखना ज्‍यादा बड़ी समझदारी है।

एक माह बाद आवक शुरू होने पर मूल्य में कुछ गिरावट संभव

मध्य प्रदेश में चालू रबी सीजन के दौरान सरसों की बुवाई घटने के कारण इसके भावों में लगातार तेजी आ रही है। सरसों के भाव एक बार फिर 4250 रुपये क्विंटल पर पहुंच चुके हैं। जबकि एक माह पहले सरसों के भाव 3600 से 3800 रुपये प्रति क्विंटल के बीच चल रहे थे। जबकि सरसों तेल का भाव 85 रुपये प्रति किलो पर है। भावों में तेजी का कारण मंडियों में सरसों की कम आवक और किराना में मांग बनी रहना है। इसके साथ ही ठंड बढऩे के बाद सरसों के तेल की मांग बढऩे से भी तेजी को बल मिला है।


व्यापारियों के मुताबिक जनवरी के अंतिम सप्ताह से फसल आना शुरू हो जाएगी, इसके बाद ही भावों में गिरावट देखी जा सकती है। प्रदेश की रबी सीजन की तीसरी सबसे बढ़ी फसल सरसों की बुवाई भी अभी उम्मीद से कम 7.78 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में हुई है। कृषि विभाग ने करीब 8.5 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में बुआई का अनुमान व्यक्त किया था। प्रदेश में इस साल करीब 10.5 लाख टन उत्पादन हो सकता है।


मुरैना में सरसों का थोक व्यापार करने वाले और प्लांट संचालक अशोक कुमार गुप्ता ने कहा कि इस बार चना के भावों में लगातार तेजी बनी रहने के कारण किसानों ने सरसों छोड़कर चना की बुआई को प्राथमिकता दी है इसलिए सरसों की बुआई कम हुई है। जिससे सरसों का उत्पादन घटने की संभावना है इसलिए सरसों के भावों में तेजी आ गई है।


ठंड बढऩे और पश्चिम बंगाल से अभी भी मांग बनी रहने के कारण भावों में तेजी का रुख बना हुआ है। मुरैना जैसी मंडी में 300 से 400 क्विंटल सरसों ही आ रही है। भावों में गिरावट की उम्मीद जनवरी अंत में फसल आने के बाद ही होगी। सरसों तेल का भाव 8500 रुपये क्विंटल चल रहे हैं। 


वहीं मंदसौर में कैलाश चंद हीरालाल फर्म के मनोज जैन ने कहा कि सरसों तेल की डिमांड बनी हुई है, साथ ही मंडियों में आवक नगण्य है इसलिए भावों में तेजी का रुख बना हुआ है। उन्होंने कहा कि मंदसौर मंडी में 100 से 150 बोरी ही आवक हो रही है। मध्य प्रदेश में ग्वालियर, चंबल अंचल के अतिरिक्त टीकमगढ़, छतरपुर, मंदसौर, नीमच, उज्जैन और रतलाम जिलों में प्रमुख तौर पर सरसों की खेती की जाती है।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
6 + 7

 
Email Print Comment