AGRI
Home » Market » Commodity » Agri »Lack Of Good Quality Tea Boom
Peter Drucker
मुनाफा किसी कंपनी के लिए उसी तरह है जैसे एक व्यक्ति के लिए ऑक्सीजन।

दिल्ली के थोक बाजार में उम्दा किस्म की चाय 160-200 रुपये प्रति किलो

अक्टूबर माह में चाय के उत्पादन में कमी के चलते बाजार में बढिय़ा क्वालिटी की चाय की कमी है। जिससे कीमतों में लगातार तेजी का रुख जारी है। बढिय़ा क्वालिटी की चाय महंगी होने का असर निचले दर्जे की चाय की कीमतों पर भी देखने को मिल रहा है।


दिल्ली थोक बाजार में महीनेभर में चाय की कीमतों में 15-20 रुपये प्रति किलो की तेजी दर्ज की गई है। यहां बढिय़ा क्वालिटी की चाय का भाव 160-200 रुपये प्रति किलो के स्तर पर है। वहीं निचले दर्जे की चाय 110-140 रुपये प्रति किलो के भाव पर बेची जा रही है। चाय के थोक कारोबारियों के मुताबिक सालभर में चाय की कीमतें 35-40 फीसदी तक बढ़ गई हैं।


दिल्ली में चाय का थोक कारोबार करने वाले साउथ टी कंपनी के मालिक राकेश तायल ने बताया कि पिछले साल बाजार में, जो चाय 100 रुपये प्रति किलो के भाव पर बेची गई थी, उसका भाव वर्तमान में 140 रुपये प्रति किलो के स्तर पर है। उन्होंने कहा कि इस साल चाय के कुल उत्पादन में कमी के अनुमान व बाजार में बढिय़ा क्वालिटी की चाय की कमी के कारण कीमतों में तेजी दर्ज की गई है। बढिय़ा क्वालिटी की चाय के दाम भी 20 रुपये प्रति किलो तक बढ़ गए हैं।


सिलिगुड़ी में चाय का कारोबार करने वाले नीरज कुमार ने भी अच्छी क्वालिटी की चाय में कमी की बात कही। उन्होंने कहा कि बढिय़ा चाय के दाम ऊपर आने का असर निचले दर्जे की चाय की कीमतों पर भी पड़ा है।


उत्पादन में कमी के चलते चाय के नीलामी मूल्य में भी पिछले साल की तुलना में भारी बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। सिलिगुड़ी में दिसंबर माह की पंद्रह तारीख को हुई नीलामी में सीटीसी लीफ एंड डस्ट चाय का नीलामी मूल्य 126.77 रुपये प्रति किलो रहा। जो पिछले साल की समान नीलामी में 99.38 रुपये प्रति किलो दर्ज किया गया था।


भारतीय चाय बोर्ड के मुताबिक इस दौरान उत्तर भारत में सीटीसी लीफ व डस्ट चाय का औसत नीलामी मूल्य 137.41 रुपये प्रति किलो रहा, जो पिछले साल की समान नीलामी में 105.03 रुपये प्रति किलो दर्ज किया गया था। दक्षिण भारत में भी इसका नीलामी मूल्य पिछले साल के 68.22 रुपये से बढ़कर 98.33 रुपये प्रति किलो दर्ज किया गया। बोर्ड के मुताबिक कुल चाय के नीलामी मूल्य में भी पिछले साल की तुलना में बढ़ोतरी दर्ज की गई।


इस दौरान उत्तर भारत में कुल चाय का नीलामी मूल्य 140.94 रुपये प्रति किलो रहा जो पिछले साल 106.10 रुपये प्रति किलो था।
दक्षिण भारत में भी कुल चाय का नीलामी मूल्य 68.74 रुपये से बढ़कर 89.06 रुपये प्रति किलो हो गया।  बोर्ड के ताजा आंकड़ों के मुताबिक अक्टूबर माह के उत्पादन में फिर से गिरावट दर्ज की गई है। अक्टूबर 2012 में देश में चाय का उत्पादन 4.09 फीसदी कम रहा है।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
8 + 3

 
Email Print Comment