Q AND A
Home » Q And A »Do Not Use The Account Should Get Off?
Jim Cramer
दुनिया में डर कर किसी ने एक चवन्नी भी नहीं कमाई।
Breaking News:
  • मशहूर कार्टूनिस्ट आरके लक्ष्मण का निधन
  • Ceo सम्मेलन : सरकार व्यारपार के मुताबिक माहौल देगी – मोदी
  • Ceo सम्मेलन : हम कारोबार को और आसान बनाने पर जोर दे रहे हैं – मोदी
  • Ceo सम्मेलन : सभी समस्याओं का समाधान गुड गवर्नेंस है – मोदी
  • Ceo सम्मेलन : भारत के टूरिज्म सेक्टर में अपार संभावनाएं हैं – मोदी
  • Ceo सम्मेलन : हमनें इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स के लिए ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप बनाया है – पीएम
  • Ceo सम्मेलन : ट्रेड और इनवेस्टमेंट भारत और अमेरिका दोनों के लिए फायदेमंद होगा – ओबामा
  • Ceo सम्मेलन : हम और अधिक ट्रेड और इनवेस्टमेंट चाहते हैं, इससे दोनों देशों को फायदा होगा – ओबामा
  • Ceo सम्मेलन : अच्छी खबर यह है कि इंडो-यूएस ट्रेड पिछले कुछ सालों में 60 फीसदी बढ़ा है – ओबामा
  • Ceo सम्मेलन : सभी बड़े प्रोजेक्ट्स पर पीएमओ की रहेगी नजर – पीएम
  • Ceo सम्मेलन : भारत में कारोबार करना आसान बनाना सरकार की प्राथमिकता – मोदी
  • Ceo सम्मेलन : इसका अकेला रास्ता इंफ्रा और कृषि में भारी निवेश है – पीएम मोदी
  • Ceo सम्‍मेलन : भारत में खरीद शक्ति बढ़ाने के लिए अर्थव्यव्स्था में सुधार जरूरी है।
  • मीटिंग में मौजूद इंडिया और अमेरिका के सीईओ ने पीएम मोदी और ओबामा के पास अपने-अपने सुझाव जमा किए।
  • इस सम्मेलन में अमेरिका व भारत के सीर्इओ ले रहे हैं भाग
  • Ceo सम्मेलन में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व बराक ओबामा
इस्तेमाल में न आने वाले खाते को क्या बंद करवा दूं?

मेरा स्टेट बैंक ऑप इंडिया (एसबीआई) में बचत खाता है जिसका इस्तेमाल मैंने पिछले 10 महीने से नहीं किया है। इस खाते में पैसे भी नहीं हैं। क्या मुझे अपना यह खाता बंद करवा देना चाहिए या यह खुद ही बंद हो जाएगा? अगर मैं इस खाते को बंद नहीं करवाता हूं तो क्या परिणाम होगा?   -राम प्रकाश, पानीपत



—किसी भी बचत खाते में अगर न्यूनतम राशि रखते हुए उसका का इस्तेमाल एक निश्चित समय तक नहीं किया जाता है तो वह अक्रिय हो जाता है। लेकिन अगर आप न्यूनतम राशि अपने बचत खाते में बरकरार नहीं रखते हैं तो बैंक प्रत्येक तिमाही आपसे न्यूनतम बैंलेंस नहीं रखने के एवज में शुल्क वसूलता है।


अगर आप खाता बंद नहीं करवाते हैं तो यह शुल्क तब तक लगता लगता रहेगा जब तक कि बैंक उसे बंद नहीं करता है। हालांकि, इससे आपका बैंकिंग रिकॉर्ड प्रभावित हो सकता है और भविष्य में जब आप दूसरे बैंक में कभी खाता खुलवाने जाएंगे तो थोड़ी परेशानी हो सकती है। इसलिए, बेहतर यह होगा कि अगर आप खाते का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं तो उसे बंद ही करवा दें।



 मेरा भाई एक आईटी कंपनी में पिछले 3 साल से काम कर रहा है और अब वह एक खास कोर्स करना चाहता है जिसमें तकरीबन 50,000 रुपये खर्च होंगे। क्या वह पर्सनल लोन लेकर अपनी पढ़ाई कर सकता है?    -अवधेश चौहान, भोपाल



—पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड लोन सबसे महंगे कर्ज की श्रेणी में आते हैं। ये न केवल आपके व्यक्तिगत जीवन को प्रभावित करते हैं बल्कि इसका असर अन्य महत्वपूर्ण लक्ष्यों जैसे बच्चों की पढ़ाई, सेवानिवृत्ति योजना पर भी पड़ता है। यद्यपि, फइनेंशियल प्लानिंग के जरिए आप शिक्षा सहित अपने सभी महत्वपूर्ण लक्ष्यों के लिए योजना बना सकते हैं और उस हिसाब से संसाधनों को आवंटित कर सकते हैं।


आपके पत्र से लगता है कि आपके भाई ने अभी तक ऐसी कोई योजना नहीं बनाई है। अपनी पढ़ाई के लिए उन्हें शिक्षा ऋण लेना चाहिए जो सस्ते होते हैं।

मैंने साल 2005 में एक घर खरीदा था और इसे 2011 में बेच दिया। इन पैसों से मैंने अपनी पत्नी के नाम से एक घर खरीद लिया है। क्या मुझे कैपिटल गेन टैक्स में छूट नहीं मिलेगी? कृपया मार्गदर्शन करें।    -नरोत्तम, पलवल



आयकर अधिनियम की धारा 54एफ के तहत किसी प्रकार के लांग टर्म कैपिटल गेन (आवासीय प्रॉपर्टी के मामले में 3 साल से अधिक) पूरी तरह छूट के योग्य होती है अगर कोई व्यक्ति बिक्री से प्राप्त राशि का उपयोग 1 या 2 साल के भीतर दूसरी प्रॉपर्टी खरीदने या तीन साल के भीतर दूसरा मकान बनवाने में करता है।


आपने अपनी प्रॉपर्टी तीन साल बाद बेची है इसलिए आप छूट के हकदार हैं लेकिन नियम के मुताबिक जिसके नाम की प्रॉपर्टी बिकी है उसी के नाम से दूसरी प्रॉपर्टी खरीदी या बनाई जानी चाहिए। आपने पत्नी के नाम मकान लिया है इसलिए लांग टर्म कैपिटल गेन टैक्स का लाभ आप नहीं ले पाएंगे।

मैं जानना चाहता हूं कि भारत का कौन सा बैंक सबसे अधिक ब्याज देता है। मैं अपनी जमा पर ब्याज से प्रति महीने अधिकतम 15,000 रुपये प्राप्त करना चाहता हूं। क्या आप यह जानकारी देंगे कि भारत का कौन सा बैंक मेरी जमा पर सबसे अधिक रिटर्न दे सकता है?      -राजेंद्र, रायपुर



—राजेंद्रजी आपने अपेक्षित आय के लिए समयावधि का जिक्र अपने पत्र में नहीं किया है। बैंक केवल दीर्घावधि की जमाओं पर ही अधिक ब्याज दरों की पेशकश करते हैं। अधिकतम ब्याज दरें 7 से 10 साल की जमाओं पर मिलती हैं। लेकिन अगर आपका लक्ष्य तीन साल के लिए है तो हो सकता है ब्याज की रकम आपकी आवश्यकताओं को पूरी न कर सके।


इसके अतिरिक्त बैंक जमा से प्राप्त ब्याज पर लगने वाला कर भी कमाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। फिक्स्ड डिपॉजिट से प्राप्त होने वाले 5,000 रुपये से अधिक सालाना ब्याज पर कर लगाया जाता है।



आयकर, आप जिस कर दायरे में आते हैं, उस हिसाब से लगाया जाता है। अगर आप इन महत्वपूर्ण कारकों पर गौर नहीं फरमाते हैं तो इससे निवेश की राशि बढ़ानी पड़ सकती है। मेरी सलाह होगी आप अपेक्षित आय के लिए निवेश के अन्य विकल्पों पर भी विचार कर सकते हैं।

समाधान :- जितेंद्र सोलंकी, सर्टिफायड फाइनेंशियल प्लानर, जे. एस. फाइनेंशियल एडवाइजर्स, दिल्ली

  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
Email Print Comment