AGRI
Home » Market » Commodity » Agri »खाद्य मंत्रालय ने 25 लाख टन अतिरिक्त गेहूं निर्यात का प्रस्ताव रखा
Warren Buffett
निवेश की दुनिया में भव‍िष्‍य के बजाय अतीत को देखना ज्‍यादा बड़ी समझदारी है।
खाद्य मंत्रालय ने 25 लाख टन अतिरिक्त गेहूं निर्यात का प्रस्ताव रखा

खाद्य मंत्रालय ने 25 लाख टन अतिरिक्त गेहूं निर्यात का प्रस्ताव रखा
निर्धारित 20 लाख टन में से 18 लाख टन गेहूं का निर्यात

अच्छी कीमत
315 डॉलर प्रति टन है निर्यात बोली की औसत कीमत
328 डॉलर प्रति टन की सबसे ऊंची बिड मिली सरकार को

केंद्र सरकार ने केंद्रीय पूल से 20 लाख टन गेहूं के निर्यात का फैसला किया था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में गेहूं का भाव ऊंचा होने के कारण सरकार को निर्यात में अच्छी सफलता मिली है। पूल से सार्वजनिक कंपनियों द्वारा अभी तक 18 लाख टन गेहूं के निर्यात सौदे किए जा चुके हैं। इसमें से 10 लाख टन की शिपमेंट भी हो चुकी है। अब खाद्य मंत्रालय ने केंद्रीय पूल से 25 लाख टन और गेहूं के निर्यात का प्रस्ताव किया है।


भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक डॉ. अमर सिंह ने बिजनेस भास्कर को बताया कि केंद्र सरकार ने केंद्रीय पूल से 20 लाख टन गेहूं के निर्यात की अनुमति दी थी। इस गेहूं का निर्यात सार्वजनिक कंपनियों एमएमटीसी, एसटीसी और पीईसी के माध्यम से किया जा रहा है।


सार्वजनिक कंपनियां अभी तक 18 लाख टन गेहूं के निर्यात सौदे कर चुकी हैं तथा इसमें से 10 लाख टन की शिपमेंट भी हो चुकी है।
उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में गेहूं के दाम बढऩे से निर्यात पड़ते अच्छे लग रहे हैं। इस समय औसतन 315 डॉलर प्रति टन का भाव मिल रहा है।


हाल ही में एसटीसी को गेहूं निर्यात की सबसे ऊंची बोली 328 डॉलर प्रति टन की दर की मिली है। उन्होंने बताया कि खाद्य मंत्रालय ने केंद्रीय पूल से और 25 लाख टन गेहूं के निर्यात का प्रस्ताव किया है जिसका फैसला आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) को करना है।
उन्होंने बताया कि केंद्रीय पूल में पहली दिसंबर को 376.52 लाख टन गेहूं का स्टॉक मौजूद था जो एक जनवरी के तय मानकों के 82 लाख टन से कई गुना ज्यादा है।


कृषि मंत्रालय के अनुसार वर्ष 2011-12 में 939 लाख टन गेहूं का बंपर उत्पादन हुआ है जो वर्ष 2010-11 के 868.7 लाख टन से ज्यादा था। चालू रबी में अभी तक देशभर में 227.45 लाख हैक्टेयर में गेहूं की बुवाई हो चुकी है जो पिछले साल के 220.82 लाख हैक्टेयर के मुकाबले ज्यादा है। ऐसे में चालू रबी में भी गेहूं की पैदावार बढऩे का अनुमान है।


सार्वजनिक कंपनी एसटीसी ने गेहूं निर्यात के लिए तीन निविदा मांगी हुई हैं जो कि क्रमश: 40 हजार टन, 1.50 लाख टन और 30 हजार टन गेहूं निर्यात के लिए हैं। निविदा भरने की अंतिम तिथि 21 दिसंबर तथा 31 दिसंबर को निविदा ओपन होंगी।


एमएमटीसी ने भी 1.10 लाख टन गेहूं के निर्यात हेतु निविदा मांगी हुई हैं जिसको भरने की अंतिम तिथि भी 21 दिसंबर है। इसके अलावा पीईसी लिमिटेड ने भी एक लाख टन गेहूं निर्यात के लिए निविदा मांगी है। निविदा सात जनवरी तक भरी जाएंगी तथा 17 जनवरी को ओपन होंगी।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 2

 
Email Print Comment