UPDATE
Home » Income Tax » Update »Tax Exemption On Land Purchased From Lone Ripement
Peter Drucker
मुनाफा किसी कंपनी के लिए उसी तरह है जैसे एक व्यक्ति के लिए ऑक्सीजन।

लोन से खरीदी जमीन के रिपेमेंट पर नहीं मिलती टैक्स छूट

मणिकरन सिंघल, सर्टिफायड फाइनेंशियल प�� | Feb 01, 2013, 15:29PM IST
लोन से खरीदी जमीन के रिपेमेंट पर नहीं मिलती टैक्स छूट

मैं सरकारी नौकरी में हूं। मैं एक रेडी टू मूव घर में निवेश करना चाहता हूं। मुझे इसके लिए कितना लोन मिल सकता है? मुझे किस बैंक से, किस तरह का और कितनी ब्याज दर पर लोन मिल सकता हैं? होम लोन और हाउसिंग लोन में क्या अंतर होता है? क्या किसी प्लॉट को खरीदने के लिए मुझे लोन मिल सकता है? मुझे इस पर किस तरह का और कितना लोन मिल सकता है?  - ललित गुप्ता, संगरूर
- लोन राशि का निर्धारण यह देखकर किया जाता है कि व्यक्ति कि रिपेमेंट क्षमता क्या है, उसकी उम्र क्या है, शैक्षिक योग्यता, आश्रितों की संख्या, एसेट और बचत की आदत कैसी है? आप सरकारी नौकरी में हैं तो आपकी आय में स्थायित्व है। आपको काफी आसानी से आसान शर्तों वाला होम लोन मिल जाएगा। होम लोन और हाउसिंग लोन के बीच कोई अंतर नहीं होता है। आपको जमीन के लिए भी लोन मिल जाएगा। हालांकि, आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि अगर आप जमीन खरीदने के लिए लोन लेते हैं तो इस पर आपको टैक्स छूट का कोई फायदा नहीं मिलेगा।

मैं आपनी 3 महीने की बेटी के लिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना चाहती हूं। इसके लिए क्या विकल्प मौजूद हैं?  - तृप्ति, भोपाल
सभी इंश्योरेंस पॉलिसी 91 दिन के बच्चे को इंश्योरेंस कवर देती हैं। अच्छा तो यही रहेगा कि आप अपने मौजूदा कवर में ही उसका नाम शामिल करवा लें। अगर आपके पास कोई हेल्थ इंश्योरेंस कवर नहीं है तो फौरन इसकी खरीदारी कर लें। ऐसी बहुत सी साधारण बीमा कंपनियां हैं जो उन्हीं बच्चों को इंश्योरेंस कवर देती हैं जिनके माता-पिता भी इंश्योर्ड हों।

मैं हर महीना दस हजार रुपये की बचत कर सकता हूं। कृपया मुझे उपयुक्त निवेश इंस्ट्रूमेंट के बारे में बताएं। मैं किसी ऐसे विकल्प में निवेश करना चाहता हूं जिससे अच्छा रिटर्न मिले, टैक्स छूट का फायदा भी प्राप्त हो और भविष्य भी सुरक्षित हो जाए। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि मैं म्यूचुअल फंड में निवेश करूं, बीमा लूं या फिर कुछ और।   - ललित, संगरूर  
-निवेश के लिए किसी विकल्प का चयन करने से पहले आपको दो पहलू पर अपना रुख साफ करना होगा। एक तो है आपका मासिक खर्च और दूसरा है आपका लक्ष्य। मासिक खर्च से आपको इस बात का अंदाजा लग जाएगा कि आप लंबी अवधि का निवेश कर पाएंगे या फिर छोटी अवधि का। आम तौर पर लोग अपने खर्चों को अनदेखा कर के लंबी अवधि का निवेश कर देते हैं पर अपनी छोटी-छोटी जरूरतों के लिए इस निवेश से पैसा निकालने लगते हैं।

आपके लक्ष्यों से इस बात का अंदाजा लग जाएगा कि आपकी कितनी अवधि तक के लिए निवेश करना चाहते हैं। इससे आपको एसेट क्लास के चुनाव में मदद मिलेगी। इंश्योरेंस और फंड के बीच चयन करना काफी आसान है। दोनों ही जरूरी हैं पर इनका मकसद अलग है।

आपको इंश्योरेंस को निवेश से नहीं मिलाना चाहिए। सबसे पहले आपको टर्म इंश्योरेंस के जरिए अपने लिए पर्याप्त कवर लेना चाहिए। फिर आपको हेल्थ इंश्योरेंस लेना चाहिए और उसके बाद आपको म्यूचुअल फंडों से निवेश की शुरुआत करनी चाहिए। आप अवधि और जरूरत के हिसाब से अपने लिए डेट और इक्विटी म्यूचुअल फंडों का चयन कर सकते हैं।

समाधान - मणिकरन सिंघल, सर्टिफायड फाइनेंशियल प्लानर, मार्वेल इंवेस्टमेंट्स, चंडीगढ़
 

Light a smile this Diwali campaign

आपकी राय

 

मैं सरकारी नौकरी में हूं। मैं एक रेडी टू मूव घर में निवेश करना चाहता हूं। मुझे इसके लिए कितना लोन मिल सकता है?

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 2

 
Email Print Comment