UPDATE
Home » Financial Planning » Update »Research, Patience And Trust Returns Will
Randy Thurman
एक पैसा बचाने का मतलब दो पैसा कमाना जरूर है लेकिन टैक्स चुकाने के बाद।

शोध, भरोसा और धैर्य देगा अच्छा रिटर्न

बिजनेस भास्कर नई दिल्ली | Jan 21, 2013, 01:23AM IST
शोध, भरोसा और धैर्य देगा अच्छा रिटर्न

शेयर बाजार में निवेश करना हो तो यह आप स्वयं तय कीजिए कि कौन सा समय उपयुक्त है। अपना तर्क लगाइए, साहस दिखाइए और निवेश कीजिए। निश्चय ही यह लाभ पहुंचाएगा।

यह जरुरी नहीं कि आप जिस समय जहां निवेश करने जा रहे हों वह लोगों को भी पसंद आए। आपकी यह पसंद औरों से भिन्न हो सकती है लेकिन यह जरुरी भी तो नहीं कि सबकी पसंद एक जैसी हो।

निवेश संबंधी महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए आप जितनी अधिक जानकारी और ज्ञान प्राप्त करते हैं उतना ही लाभप्रद है, इससे आपको भविष्य में हानि कम होगी।

कभी किसी एक ही स्टॉक में निवेश न करें। विभिन्न चुनिंदा कंपनियों के स्टॉक में निवेश करें। इस प्रकार के डाइवर्सिफिकेशन से जोखिम कम हो जाता है। उदाहरण के लिए अगर आप १० कंपनियों के शेयर में अपने पैसे लगाते हैं।

उनमें से ४ कंपनियों के शेयर में आपको हानि होती है लेकिन इसकी हानि की भरपाई शेष ६ कंपनियों के शेयर से हो जाती है। इतना ही नहीं ४ कंपनियों के शेयर में हानि होने के बावजूद आप लाभ अर्जित कर पाते हैं। डाइवर्सिफिकेशन का यह सबसे बड़ा फायदा है।

अल्पावधि के लिए निवेश करने वाले निवेशकों को बाजार के चढऩे का बेसब्री से इंतजार होता है ताकि वे मुनाफा कमा सकें। जबकि विशेषज्ञों का मानना है कि स्टॉक में दीर्घावधि के लिए निवेश किया जाना चाहिए। निवेश की यह अवधि अगर ३-५ वर्षों की हो तो १२-१५ प्रतिशत के रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है। निवेशकों को शेयरों में निवेश के चक्रवृद्धि का जादू देखने के लिए थोड़ा इंतजार करना चाहिए।

अगर ३-४ सप्ताह बाद शेयर की कीमत कम हो जाती है तो निवेशकों को चिंतित नहीं होना चाहिए। दीर्घावधि के उद्देश्य से किए गए निवेश पर अल्पावधि के लाभ या हानि का कोई विशेष असर नहीं होता हैै। बाजार में पैसे लगाने वाले लोगों को धैर्य रखना चाहिए। शेयरों के मूल्य में होने वाले उतार-चढ़ाव से नए निवेशक सबसेे अधिक प्रभावित होते हैं।

वास्तव में यह एक संकेत होता है कि किसी शेयर की कीमत एक दिन में कितना ऊपर या नीचे जा सकता है। शेयर की कीमत में होने वाला यह उतार-चढ़ाव इस बात पर निर्भर करता है कि आपने किस उद्योग से जुड़ी कंपनी का शेयर खरीदा है।

भरोसा बहुत बड़ी चीज है। उस कंपनी पर आपको विश्वास होना चाहिए जिसके शेयर आपने खरीदे हैं। शेयर खरीदने से पहले यह जरुरी है कि आप उस कंपनी पर थोड़ा-बहुत शोध करें और कंपनी की दशा और दिशा जानें।

अगर आपकी गणना सही है तो दीर्घावधि में आपको लाभ होना निश्चित है। कई ऐसी कंपनियां है जिनके शेयर की कीमतों में काफी उतार-चढ़ाव आए। यह देख कर कई निवेशक ों ने अपने शेयर बेच डाले, लेकिन जिन्होंनेे धैर्य के साथ अपना निवेश ५-७ वर्षों तक बनाए रखा उन्हें जबरदस्त लाभ हुआ।

आपकी राय

 

शेयर बाजार में निवेश करना हो तो यह आप स्वयं तय कीजिए कि कौन सा समय उपयुक्त है।

Email Print Comment