AGRI
Home » Market » Commodity » Agri »Palm Oil Imports Decreased More Than 5% In July
Jim Cramer
दुनिया में डर कर किसी ने एक चवन्नी भी नहीं कमाई।

जुलाई में 5% से ज्यादा घटा पाम ऑयल आयात

Agency | Aug 15, 2013, 00:05AM IST
जुलाई में 5% से ज्यादा घटा पाम ऑयल आयात

कुछ कैटेगरी में पाम ऑयल के आयात में देखी गई है अच्छी खासी बढ़ोतरी

कमी
इस साल जुलाई में क्रूड और रिफाइंड पाम ऑयल का आयात ५.२ फीसदी घटकर ५,६८,२५४ टन रह गया है जो जुलाई २०१२ के दौरान ५,९९,१२८ टन था।

वैश्विक प्रभाव
भारतीय मांग में कमी आने का असर अंतरराष्ट्रीय बाजार पर देखा जा रहा है और दुनिया के दूसरे सबसे बड़े पाम ऑयल उत्पादक मलेशिया में इसका स्टॉक बढ़ गया है। एक खास बात यह भी है कि एक तरफ जहां भारत की मांग में कमी आई है वहीं दूसरी तरफ मलेशिया में पाम ऑयल के उत्पादन में बढ़ोतरी भी हुई है।

रुपये में आई कमजोरी का असर पाम ऑयल के आयात पर भी हुआ है और पिछले तीन महीनों में पहली बार इसमें गिरावट दर्ज की गई है। जानकारों का कहना है कि रुपये में आई ऐतिहासिक गिरावट के कारण रिफाइनरीज की लागत बहुत बढ़ गई है जिसके कारण वे अपना आयात घटा रहे हैं।

सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया का कहना है कि इस साल जुलाई में क्रूड और रिफाइंड पाम ऑयल का आयात ५.२ फीसदी घटकर ५,६८,२५४ टन रह गया है जो जुलाई २०१२ के दौरान ५,९९,१२८ टन था। हालांकि रिफाइंड, ब्लीच्ड और डियोडराइज्ड पाम ऑयल के आयात में ९० फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

इस साल जुलाई में इन कैटेगरी के पाम ऑयल का आयात बढ़कर २,१३,८५३ टन के स्तर पर पहुंच गया जो बीते वर्ष के जुलाई माह में १,१२,६११ टन रहा था। भारतीय मांग में कमी आने का असर अंतरराष्ट्रीय बाजार पर देखा जा रहा है और दुनिया के दूसरे सबसे बड़े पाम ऑयल उत्पादक मलेशिया में इसका स्टॉक बढ़ गया है।

एक खास बात यह भी है कि एक तरफ जहां भारत की मांग में कमी आई है वहीं दूसरी तरफ मलेशिया में पाम ऑयल के उत्पादन में बढ़ोतरी भी हुई है। जानकारों का यह भी कहना है कि अगर भविष्य में पाम ऑयल की कीमतों में तेजी आती है तो भी भारत अपनी इन्वेंट्री नहीं बढ़ाएगा। इस साल पाम ऑयल का उत्पादन ज्यादा हुआ है ऐसे में जाहिर सी बात है कि इसकी कीमतों पर दबाव तो बना रहेगा।

मलेशिया में पाम ऑयल का उत्पादन बढ़ा
कुआलालंपुर - मलेशिया में पिछले दस महीनों में पहली बार जुलाई में पाम ऑयल के उत्पादन में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। खास बात यह है कि इस बढ़ोतरी ने विश्लेषकों के आंकड़ों को गलत साबित कर दिया है।

हालांकि दुनिया में दूसरे सबसे बड़े पाम ऑयल उत्पादक मलेशिया में स्टॉक अभी भी दो साल के सबसे निचले स्तर पर बने हुए हैं। मलेशियन पाम ऑयल बोर्ड द्वारा जारी किए गए डाटा के मुताबिक पाम ऑयल का उत्पादन १८ फीसदी की बढ़त के साथ १६.७ लाख टन के स्तर पर पहुंच गया है।

बीते सितंबर के बाद यह पहली बार है जो उत्पादन इस स्तर पर पहुंचा है। इससे पहले एक एजेंसी के सर्वे में कहा गया था कि पाम ऑयल का उत्पादन १५.६ लाख टन के स्तर पर पहंच सकता है लेकिन यह इस अनुमान से ज्यादा है। जुलाई माह के दौरान इन्वेंट्री में भी एक फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई। (एजेंसी)

आपकी राय

 

रुपये में आई कमजोरी का असर पाम ऑयल के आयात पर भी हुआ है और पिछले तीन महीनों में पहली बार इसमें गिरावट दर्ज की गई है।

  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
Email Print Comment