CORPORATE
Home » News Room » Corporate »News Related To 2G Spectrum
Randy Thurman
एक पैसा बचाने का मतलब दो पैसा कमाना जरूर है लेकिन टैक्स चुकाने के बाद।
Breaking News:
  • मैन्युफैक्चरिंग में प्रतिस्पर्धी होने की जरूरत : जेटली
  • भारत बड़ी चुनौतियों और व्यापक अवसरों की दहलीज पर खड़ा है: वित्त मंत्री अरुण जेटली
  • 2020 तक तेल और गैस पर निर्भरता 10 फीसदी कम करेंगे : मोदी
  • राज्यों को बंजर भूमि पर जटरोफा की खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित किया गया : मोदी
  • डीजल की कीमतों को बाजार के हवाले करने के फैसले को देश ने स्वीकार किया : मोदी
  • आने वाले वर्षों में एक करोड़ परिवार तक पाइपलाइन के जरिए गैस आपूर्ति करने का लक्ष्य : मोदी
  • पीएम मोदी ने स्वत: एलपीजी सब्सिडी सरेंडर करने के लिए ‘गिव इट अप’ प्लान लांच किया
  • अभी तक 2.8 लाख लोगों ने स्‍वत: एलपीजी सब्सिडी छोड़ दी है: मोदी
  • जो लोग मार्केट भाव पर एलपीजी सिलेंडर खरीद सकते हैं, उन्‍हें सब्सिडी छोड़ देनी चाहिए: पीएम मोदी

30-50 फीसदी सस्ते पर मिलेगा 2जी स्पेक्ट्रम, कॉल दरें होंगी सस्ती

Agency | Jan 08, 2013, 17:05PM IST
30-50 फीसदी सस्ते पर मिलेगा 2जी स्पेक्ट्रम, कॉल दरें होंगी सस्ती
नई दिल्ली : स्पेक्ट्रम बिक्री के लिये दूसरे दौर की नीलामी मार्च में शुरू होगी। यह नीलामी मंत्रिमंडल द्वारा 800 मेगाहर्ड्ज बैंड में आरक्षित मूल्य घटाने के निर्णय के बाद होगी। इस बैंड के स्पेक्ट्रम का उपयोग सीडीएम आधारित मोबाइल सेवाओं के लिये होता है।
मंत्रियों के अधिकार प्राप्त समूह (ईजीओएम) की बैठक के बाद दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि सभी नीलामी मार्च में होगी। सीडीएमए नीलामी के बारे में उन्होंने कहा कि सभी सर्किलों में 800 मेगाहर्ड्ज बैंड के लिये बोली आमंत्रित की जाएगी।
इस बीच, सूत्रों ने कहा कि ईजीओएम ने सीडीएमए स्पेक्ट्रम मूल्य में 30 से 50 प्रतिशत कटौती का प्रस्ताव किया है और इस बारे में अंतिम निर्णय मंत्रिमंडल करेगा।
सूत्र ने कहा कि मंत्रिमंडल सीडीएमए स्पेक्ट्रम कीमत के बारे में निर्णय करेगा। नीलामी 11 मार्च को शुरू होगी। सरकार पिछले साल नवंबर में हुई सीडीएमए स्पेक्ट्रम की नीलामी करने में विफल रही। उच्च आरक्षित मूल्य के कारण कोई भी इसके लिये बोली लगाने आगे नहीं आया। 1800 मेगाहर्ड्ज बैंड में जीएसएम स्पेक्ट्रम के लिये आरक्षित मूल्य के मुकाबले सीडीएमए स्पेक्ट्रम का आरक्षित मूल्य 1.3 गुना अधिक था। देश भर के लिये 1800 मेगाहट्र्ज बैंड में 5 मेगाहर्ड्ज स्पेक्ट्रम हेतु आरक्षित मूल्य 14,000 करोड़ रुपये रखा गया था।
पिछली नीलामी में सरकार को स्पेक्ट्रम बिक्री से केवल 9,407 करोड़ रुपये प्राप्त हुए जबकि इससे 28,000 करोड़ रुपये की आय की उम्मीद की जा रही थी। इसका कारण उच्च आरक्षित मूल्य था। उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल फरवरी में 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन मामले में 122 लाइसेंस रद्द कर दिये। इसमें सिस्तेमाल श्याम टेलीसर्विसेज को 21 सर्किलों में मिला लाइसेंस तथा तीन सर्किलों में टाटा टेलीसर्विसेज को मिला लाइसेंस शामिल हैं।
इन कंपनियों के लिये संबद्ध सर्किलों में सेवा में बने रहने के लिये स्पेक्ट्रम लेना जरूरी है। इस मामले में उनका लाइसेंस 18 जनवरी को समाप्त होगा। लेकिन उच्च आरक्षित मूल्य के कारण दोनों कंपनियों ने नीलामी में भाग नहीं लिया।
Email Print Comment