UPDATE
Home » Income Tax » Update »Learn How To Create - Tax Refunds Easier
Richard Branson
जीवन में जो चीज रोमांचित करे उसे पूंजी में बदल देना ही उद्यमिता है।

जानिये कैसे बनाएं - टैक्स रिफंड की राह आसान

मनीश कुमार मिश्र नई दिल्ली | Jan 19, 2013, 00:02AM IST
जानिये कैसे बनाएं - टैक्स रिफंड की राह आसान

अगर आप ई-फाइलिंग करते हैं तो अमूमन 90 दिनों के भीतर टैक्स रिफंड आ जाता है। टैक्स रिफंड समय पर पाने के लिए टीडीएस का फॉर्म 26एएस से मिलान करने के अलावा पैन और बैंक से जुड़ी जानकारियां सही होने की जांच कर लें

टैक्स रिफंड पाने में संभवत: उतनी ही खुशी मिलती है जितनी कि गली में पाई गई एक लॉटरी के टिकट पर बंपर प्राइज निकलने पर। अपने देश में अधिकांश ऐसे मामले देखने को मिलते हैं जहां करदाता आवश्यकता से अधिक आयकर का भुगतान करने के बाद रिफंड के लिए कम से कम दो वर्षों का इंतजार करते हैं।

जाने-माने आयकर विशेषज्ञ सुभाष लखोटिया कहते हैं कि टैक्स रिफंड में विलंब के कई कारण हो सकते हैं। भारतीय आयकर विभाग प्रत्येक वर्ष करोड़ों आयकरदाताओं के आयकर रिटर्न की प्रोसेसिंग करता है और विलंब का एक कारण यह भी है। स्रोत पर कर कटौती की वजह से आय देने वाले की यह जिम्मेदारी होती है कि वह प्राप्तकर्ता व्यक्ति के बदले कर चुकाए। ऐसे मामले में कर रिफंड का दावा करने में कई एडमिनिस्ट्रेटिव इश्यू शामिल होते हैं।

ऑनलाइन टीडीएस प्रणाली
वर्तमान प्रणाली के अंतर्गत टैक्स कटौती करने वालों को कर के ऑनलाइन भुगतान के जरिए सरकारी खजाने में कर जमा कराना पड़ता है। साथ ही डिडक्टर को तिमाही आधार पर ई-टीडीएस रिटर्न दाखिल कर काटे और जमा किए गए कर की विस्तृत जानकारी देनी होती है।

अगर ये दोनों मेल नहीं खाते है तो आम तौर पर टैक्स रिफंड की प्रोसेसिंग नहीं होती है, इसके बदले करदाता को आयकर के भुगतान का नोटिस मिल सकता है। इससे वास्तविक करदाताओं को भी ई-टीडीएस की गड़बडिय़ों का खामियाजा भुगतना पड़ता है।

क्या करें करदाता
एक तरफ जहां आयकर विभाग ई-टीडीएस से जुड़े मसलों को सुलझाने का प्रयास कर रहा है वहीं करदाताओं को टैक्स रिफंड में देरी से बचने के लिए निम्नलिखित कदम उठाने चाहिए-

पैन बनवाएं और सत्यापन कराएं
गर्ग नवीन एंड कंपनी के चार्टर्ड एकाउंटेंट नवीन गर्ग कहते हैं कि टीडीएस प्रणाली में सभी टैक्स क्रेडिट आपके पैन से जुड़े होते हैं। इसलिए अगर आपके पास पैन नंबर नहीं है तो इसके लिए तत्काल आवेदन करें। पैन नंबर आ जाने के बाद अपने नियोक्ता या अन्य टैक्स डिडक्टर को इसका सही जानकारी दें।

इसके अलावा जब डिडक्टर टीडीएस जारी करता है तो उसमें इस बात की तस्दीक कर लें कि आपका पैन नंबर सही है। टीडीएस और रिफंड के मेल कराने में अधिकांश मामले ऐसे होते हैं जहां पैन की जानकारी नहीं दी गई होती या पैन नंबर अलग-अलग होते हैं।

टीडीएस का ई-वेरिफिकेशन
आप आयकर विभाग के साथ पंजीकृत होकर अपने नियोक्ता या डिडक्टर के टीडीएस का सत्यापन करा सकते हैं। अगर आपको कोई खामी नजर आती है तो आप नियोक्ता या डिडक्टर से बातचीत कर  ई-टीडीएस में सुधार करवा सकते हैं। पैन नंबर के अलावा भी कई तरह की गड़बडिय़ां होती है जैसे गलत एसेसमेंट वर्ष का चालान भरना या गलत चालान नंबर देना आदि।

गर्ग कहते हैं कि टैक्स रिटर्न फाइल करने से पहले करदाताओं को फॉर्म 26एएस से टीडीएस का मेल कर लेना चाहिए और इस बात की तस्दीक कर लेनी चाहिए कि टीडीएस में दी गई जानकारियां फॉर्म 26एएस की जानकारियों से पूरी तरह मेल खाता है।

पैन नंबर सही हो
इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स इन इंडिया (आईसीएआई) के पूर्व प्रेसिडेंट और चार्टर्ड एकाउंटेंट अमरजीत चोपड़ा कहते हैं कि टैक्स रिटर्न फाइल करने वाले व्यक्ति को यह बारीकी से देख लेना चाहिए कि पैन नंबर की जानकारी दस्तावेजों में सही है। पैन नंबर गलत होने की वजह से भी टैक्स रिफंड में देरी हो सकती है और अधिकतर मामलों में यह अटक जाता है।

बैंक से जुड़ी जानकारियां
टैक्स रिटर्न फाइल करते समय टीडीएस का फार्म 26 एएस के साथ मिलान, पैन नंबर सही होने की तस्दीक करने के अलावा रिटर्न फाइल करने वाले लोगों को बैंक के बारे में दी गई जानकारियों पर भी गौर करना चाहिए।

गर्ग कहते हैं कि अधिकांश मामलों में रिटर्न फाइल करने वाले व्यक्ति बैंक के संदर्भ में सही जानकारी नहीं देते जिससे टैक्स रिफंड की प्रोसेसिंग में विलंब होता है। आम तौर पर रिटर्न फाइल करने के छह-नौ महीने के अंदर टैक्स रिफंड आ जाना चाहिए।

चोपड़ा कहते हैं कि कभी-कभार इसमें दो साल भी लग जाते हैं। प्रोसेसिंग में विलंब होना इसकी प्रमुख वजह है। लेकिन अगर किसी रिटर्न फाइल करने वाले व्यक्ति ने उपरोक्त बातों का ध्यान रखते हुए रिटर्न फाइल किया है तो टैक्स रिफंड मिलना तय है।

आपकी राय

 

अगर आप ई-फाइलिंग करते हैं तो अमूमन 90 दिनों के भीतर टैक्स रिफंड आ जाता है।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 5

 
Email Print Comment