UPDATE
Home » Loans » Update »Do Not Let Bad Credit Report
Warren Buffett
नियम नंबर एक: पूंजी को खोना नहीं चाहिए, नियम नंबर दो: पहले नियम को ना भूलें।

गलत रिपोर्ट को न बनने दें कर्ज की राह का रोड़ा

बिजनेस भास्कर नई दिल्ली | Dec 01, 2013, 14:20PM IST
गलत रिपोर्ट को न बनने दें कर्ज की राह का रोड़ा

सिबिल की रिपोर्ट में अगर कोई गलत एंट्री है तो निश्चित रूप से इसका असर आपकी कर्ज लेने की पात्रता पर होगा। इसे सुधारने के लिए बैंक और सिबिल से  जल्द करें संपर्क

आपके साथ भी क्या ऐसा हुआ है कि आपने क्रेडिट कार्ड या किसी लोन के लिए आवेदन किया और उसे खारिज कर दिया गया? कई लोगों के साथ ऐसा होता है और इसकी वजह होती है क्रेडिट स्कोर का कम होना। हालांकि, कई बार रिपोर्ट में गलत एंट्री भी होती है।

व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर बैंक के लिए उसकी साख के बारे में पता करने का एक अहम जरिया होती है। इसी आधार पर हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां और बैंक किसी लोन के आवेदन को मंजूरी देते हैं और खारिज करते हैं। अगर आपने बहुत पहले भी कभी डिफॉल्ट किया है तो भी यह आपकी सिबिल और क्रेडिट रिपोर्ट में दिख जाता है।

ऐसे में अपना क्रेडिट हिस्ट्री साफ रखना काफी अहम है। युवाओं की आय बढऩे के साथ ही अब लोन लेने वालों की उम्र-श्रेणी घट रही है और साथ ही डिफॉल्ट के मामलों में भी इजाफा हुआ है। कुछ समय पहले तक व्यक्ति शुरुआत में या तो कार लोन या पर्सनल लोन लिया करते थे। अब लोग होम लोन अकसर 30 और 40 साल की उम्र में लिया करते हैं।

क्रेडिट इंफॉर्मेशन ब्यूरो ऑफ इंडिया लिमिटेड, जो सिबिल के नाम से लोकप्रिय है, एक क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनी है। यह सभी बैंकों और कर्जदाताओं से उनसे उधार लेने वाले व्यक्तियों के संदर्भ में जानकारियां हासिल करती हैं।

इस जानकारी में वितरित लोन की राशि और कर्ज लेने वाले व्यक्तियों के पुनर्भुगतान का ट्रैक रिकॉर्ड होता है। लोगों में यह धारणा प्रचलित है कि कर्जदाताओं को अपने ग्राहकों (क्रेडिट कार्ड सहित) के पुनर्भुगतान के ट्रैक रिकॉर्ड की सूचनाएं, चाहे वह अच्छी हो या बुरी, उपलब्ध करानी होती है। किसी भी तरह का लोन लेने से पहले इसकी पात्रता की जांच आप खुद भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको सिबिल से ट्रांस यूनियन स्कोर मंगवाना होगा।

कर्ज से पहले देखें क्रेडिट स्कोर
सिबिल आपको क्रेडिट रिपोर्ट व क्रेडिट स्कोर की पेशकश करती है। क्रेडिट स्कोर आपके क्रेडिट लेनदेन के कई कारकों पर आधारित आंकड़ा होता है जिसकी अंकीय वैल्यू 300 से 900 के बीच होती है। अमूमन 700 के ऊपर स्कोर अच्छा माना जाता है। रिपोर्ट के लिए आपको सिबिल की वेबसाइट पर  जाना होगा।

अपनी क्रेडिट रिपोर्ट के साथ सिबिल स्कोर पाने के लिए आपको 470 रुपये का भुगतान करना होता है। वैसे अगर आप यह जानना चाहते हैं कि आपकी रिपोर्ट में कोई गलत एंट्री तो शामिल नहीं हुई है तो आपको डिमांड ड्राफ्ट के जरिए 154 रुपये का भुगतान करना होगा। आप  222.ष्द्बड्ढद्बद्य.ष्शद्व के जरिए आवेदन पत्र डाउनलोड कर सकते हैं।

उसके साथ ही आपको दो कागजात जोडऩे होंगे। एक आपकी पहचान का व दूसरा पते का प्रमाण। पहचान के लिए आप पैन कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी में से कोई एक की प्रति जोड़ सकते हैं जबकि पते के लिए आपको क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट, बिजली का बिल, पासपोर्ट, बैंक स्टेटमेंट, फोन बिल या राशन कार्ड में से किसी एक की प्रति जोडऩी होगी।

गलत एंट्री को कराएं सही
अगर क्रेडिट स्कोर में कोई गड़बड़ी है जैसे आपने कोई लोन ही नहीं लिया और वह आपके नाम पर दर्ज है या चुकाया गया लोन भी बकाए ऋण की श्रेणी में है तो आप इसे ठीक करवा सकते हैं। गलत एंट्री जो आपसे संबंधित नहीं है तो उसके बारे में आप सिबिल को ईमेल के जरिए जानकारी दें। इस बारे में आप संबद्ध बैंक से संपर्क भी कर सकते हैं ताकि बैंक अपनी गलती सुधार कर सिबिल को सूचित करे।

इस संदर्भ में बैंक के नोडल अफसर के पास लिखित शिकायत भी करें कि या तो बैंक गलती सुधारे या फिर उस गलत एंट्री के बारे में पूरा विवरण दे। क्रेडिट हिस्ट्री को दुरुस्त रखने के लिए कर्ज के मामले में डिफॉल्ट न करें। अगर विपरीत परिस्थितियों में किसी कारणवश आप कर्ज का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं तो इसके लिए निम्नलिखित विकल्पों का सहारा ले सकते हैं।

रिस्ट्रक्चरिंग का लें सहारा
उच्च शिक्षा की लागत बढऩे के साथ ही अब एजुकेशन लोन का प्रचलन बढ़ा है। और मौजूदा समय की एक बड़ी सच्चाई यह है कि नौकरी मिलने के बाद पहला वेतन मिलने से पहले ही इसकी मासिक किस्त तय होती है। इस स्थिति में, भुगतान करने में अगर जरा भी देर हो  जाए तो इससे आपकी क्रेडिट हिस्ट्री बुरी तरह से प्रभावित हो सकती है।

अगर आपने डिफॉल्ट कर दिया है तो इसे सुधारने के लिए जल्द से जल्द कदम उठाने चाहिए। इसका सीधा सा तरीका तरीका है कि बैंक के पास जाकर सेटलमेंट अवधि को बढ़ाने का निवेदन किया जाए। अगर आपने एक से  ज्यादा कर्ज लिया है कुछ बैंक कर्ज को कंसॉलिडेट करने में आपकी मदद करेंगे।  इसके अलावा डेट काउंसिलिंग एजेंसी की मदद भी ले सकते हैं। वे आपको बताएंगी कि आखिर अपने लोन की रिस्ट्रक्चरिंग कैसे कर सकते हैं। 

अगर आप अपनी ओर से कर्जदाताओं को लोन भुगतान करने के सही इरादे के बारे में बताएंगे तो निश्चित तौर पर वे यह समझ पाएंगे कि आप नियमित तौर पर डिफॉल्ट करने वाले व्यक्ति नहीं हैं। आप जिन मासिक किस्तों का भुगतान नहीं कर पाए हैं उसकी वजह यह रही कि परिस्थितियां आपके अपने नियंत्रण में नहीं थीं।

सस्ते लोन से चुकाएं महंगा कर्ज
अगर क्रेडिट कार्ड, पर्सनल लोन जैसे आपके अनसिक्योर्ड लोन को रिशेड्यूल करना संभव न हो तो आप इसे सिक्योर्ड लोन के माध्यम से फाइनेंस कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर आप फिक्स्ड डिपॉजिट पर लोन ले सकते हैं। क्रेडिट हिस्ट्री को बेदाग रखने के लिए जरूरी है कि आप बकाए कर्ज का भुगतान करते चलें।

याद रहे कि सिक्योर्ड क्रेडिट की तुलना में अनसिक्योर्ड क्रेडिट के मामले में ज्यादा बुरा व्यवहार किया जाता है। इसका सीधा सा कारण यह है कि सिक्योर्ड लोन के मामले में बैंक के पास इसे रिकवर करने का विकल्प होता है। हालांकि ऐसा अनसिक्योर्ड लोन के मामले में संभव नहीं है।

अगर आपने क्रेडिट कार्ड पर डिफॉल्ट कर दिया है और दूसरा क्रेडिट कार्ड लेने में दिक्कत आ रही है तो आप फिक्स्ड डिपॉजिट लिंक्ड क्रेडिट कार्ड का सहारा ले सकते हैं। ऐसे में पहले डिफॉल्ट के बावजूद बैंक एफडी पर आपको एक बार फिर से क्रेडिट कार्ड लेने का मौका उपलब्ध करा देता है।

आपकी राय

 

आपके साथ भी क्या ऐसा हुआ है कि आपने क्रेडिट कार्ड या किसी लोन के लिए आवेदन किया और उसे खारिज कर दिया गया?

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
3 + 2

 
Email Print Comment